Loose Top

लव जिहाद की शिकार हुई शीला दीक्षित की बेटी?

शीला दीक्षित के दामाद की घरेलू हिंसा के मामले में गिरफ्तारी को लेकर नई-नई जानकारी सामने आ रही हैं। यह मामला भी पहली नजर में मियां-बीवी के झगड़े से ज्यादा लव जिहाद का केस बनता जा रहा है। 11 नवंबर को शीला दीक्षित के दामाद सईद मोहम्मद इमरान को दिल्ली पुलिस ने बेंगलुरु से गिरफ्तार किया था। शीला की बेटी लतिका ने एफआईआर में बताया है कि उनका पति धोखेबाज है, उसके कई लड़कियों से रिश्ते हैं और वो घर में उसे बुरी तरह से मारता-पीटता है। फिलहाल इमरान को कोर्ट ने 2 दिन की पुलिस हिरासत में भेज रखा है। शीला दीक्षित तीन बार दिल्ली की सीएम रह चुकी हैं। उनके दो बच्चे हैं, लतिका और संदीप दीक्षित। संदीप दिल्ली से कांग्रेस सांसद रह चुके हैं।

सत्ता जाते ही शुरू हो गई मारपीट

शीला की बेटी लतिका ने बताया है कि “1996 में हमारी लव मैरिज हुई थी। शुरू में सबकुछ सामान्य लगा, लेकिन धीरे-धीरे बर्ताव में बदलाव आने लगा। 2013 में मां के मुख्यमंत्री पद से हटने के बाद से ही इमरान ने उस पर अत्याचार तेज़ कर दिया। एक बार तो उसने मेरा गला दबाकर जान से मारने तक की कोशिश की।” तंग आकर लतिका ने इस साल जून में दिल्ली पुलिस में एफआईआर दर्ज कराई थी। इसके बाद सईद मोहम्मद इमरान काफी वक्त तक फरार रहा। करीब 10 महीने पहले से वो अलग रह रहा था और घर से जाते वक्त वो प्रॉपर्टी के कागजात और लतिका की कई कीमती चीजें अपने साथ चोरी करके ले गया। लतिका फिलहाल अपने दो बच्चों के साथ शीला दीक्षित के घर में रह रही हैं।

महिला मित्र से पूछताछ करेगी पुलिस

दिल्ली पुलिस इस मामले में जल्द ही इमरान की एक महिला मित्र से भी पूछताछ कर सकती है। जांच में यह बात सामने आई है कि इमरान की जिस महिला से नजदीकी है वह लतिका की रिश्तेदार है। फरवरी में उस महिला का पति से तलाक हो चुका है। बेंगलुरु और दिल्ली में दोनों कई जगहों पर लिव-इन रिलेशन में रह चुके हैं। इमरान की गिरफ्तारी के बाद से यह महिला भी अपने घर से फरार है। इस मामले से ऐसा लग रहा है कि इमरान ने शादी के बाद भी हिंदू लड़कियों को झांसा देने का सिलसिला जारी रखे हुआ है। इमरान के मुसलमान होने की वजह से मीडिया का बड़ा तबका उसे सिर्फ शीला दीक्षित का दामाद लिख रहा है और उसके असली नाम को छिपा रहा है।

शीला की सत्ता का भरपूर फायदा लिया

शीला दीक्षित के 15 साल तक दिल्ली का सीएम रहने के दौरान इमरान ने उनकी सत्ता का भरपूर फायदा उठाया। उन दिनों में दिल्ली में उसका भरपूर रुतबा हुआ करता था। बताया जा रहा है कि पेशे से आर्किटेक्ट इमरान ने कॉमनवेल्थ गेम्स के दौरान भी कुछ ठेके हासिल किए थे। इसके अलावा उसके ब्लूलाइन बसें चलाने की बात भी अक्सर चर्चा में आती रही है। कॉमनवेल्थ घोटाले के दिनों में विपक्षी पार्टियों ने कई बार दबी जुबान में ही सही शीला दीक्षित के दामाद पर हो रही मेहरबानी का मुद्दा मीडिया में उठाया था।

पहली नज़र में लव जिहाद का मामला

यह मामला बिल्कुल वैसे ही जैसे किसी आम हिंदू लड़की के साथ लव जिहाद का मामला होता है। परिवार के रुतबे को देखते हुए इमरान ने फायदा उठाया और यह रुतबा जाते ही उसने अपना असली रंग दिखा दिया। बीते कुछ साल में ऐसे हजारों मामले सामने आ चुके हैं, जिनमें मुस्लिम लड़कों ने कभी अपनी पहचान बदलकर तो कभी बिना पहचान बदले हिंदू लड़कियों को अपना शिकार बनाया है। लव जिहाद से पैदा बच्चों को भी मुस्लिम परिवार कभी स्वीकार नहीं करते। ऐसे में ये तमाम परिवार आज नर्क की जिंदगी जीने को मजबूर हैं।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...

Popular This Week

Don`t copy text!