फिर सामने आया रवीश कुमार का ‘कांग्रेसी कनेक्शन’

एनडीटीवी के पत्रकार रवीश कुमार के कांग्रेस पार्टी से रिश्ते एक बार फिर उजागर हुए हैं। पिछले दिनों रवीश कुमार ने दिल्ली के चांदनी चौक जाकर नोटबंदी के बारे में वहां के कारोबारियों की प्रतिक्रिया जानने की कोशिश की। इस दौरान उन्होंने कांग्रेस के नेताओं और समर्थकों को आम व्यापारी बताकर उनसे नोटबंदी की आलोचना करवाई और उसे प्रमुखता के साथ अपने प्रोग्राम में दिखाया। जबकि चांदनी चौक में ही उन्होंने हर उस व्यक्ति को नजरअंदाज कर दिया, जिसने प्रधानमंत्री के कदम की तारीफ की। एक जगह पर जब लोगों ने इस फैसले का जोरशोर से समर्थन करना शुरू कर दिया तो रवीश उलझन में आ गए और उन्होंने फौरन जगह बदल दी।

कांग्रेसी नेता को बताया ‘आम कारोबारी’

रवीश कुमार चांदनी चौक में एक छत पर कुछ लोगों के साथ खड़े थे वहां पर उन्होंने अजय अरोड़ा नाम के एक कांग्रेसी नेता को आम कारोबारी कहकर उसका परिचय कराया। प्रोग्राम में उस कांग्रेसी नेता ने रवीश कुमार के सवाल पर मोदी सरकार के फैसले की जमकर आलोचना की। दरअसल यह एनडीटीवी का पुराना आजमाया हुआ तरीका है, जिसमें वो कांग्रेस के लोगों को आम आदमी के तौर पर बताकर उनसे मनमाफिक बयान लेकर चैनल पर सुनाते हैं। लेकिन इस बार रवीश कुमार के इस खेल की पोल खुल गई।

इस तस्वीर में अजय अरोड़ा सीनियर कांग्रेसी नेता अजय माकन के साथ दिखाई दे रहा है।

इस तस्वीर में अजय अरोड़ा सीनियर कांग्रेसी नेता अजय माकन के साथ दिखाई दे रहा है।

ट्विटर पर ट्रेंड हुआ #CongKaRavish

रवीश कुमार की ये पत्रकारीय जालसाजी दर्शकों ने नोटिस कर लिया और सोशल मीडिया पर उन्हें लेकर खूब कमेंट्स किए गए। नाराज लोगों ने ट्विटर पर ‘कांग्रेस का रवीश’ के नाम से हैशटैग भी ट्रेंड करवाया।

कांग्रेस और आप के बीच फंसे रवीश कुमार!

वैसे रवीश कुमार पर कांग्रेस और आम आदमी पार्टी दोनों से ही करीबी के आरोप लगते रहते हैं। बिहार चुनाव के वक्त रवीश कुमार की मेहनत की वजह से ही उनके भाई ब्रजेश कुमार पांडे को कांग्रेस ने अपने टिकट पर चुनाव लड़ाया था। इसके अलावा रवीश कुमार खुद दिल्ली में कभी कांग्रेस तो कभी आम आदमी पार्टी के नेताओं के समर्थन में अभियान चलाते रहते हैं। उन्हें कई बार आम आदमी पार्टी के मंचों पर भी देखा जा चुका है। ऐसी अटकलें भी हैं कि वो खुद अगले चुनाव में बिहार में आम आदमी पार्टी के सीएम कैंडिडेट बनकर लॉन्च होना चाहते हैं।

नीचे वीडियो में आप देख सकते हैं कि सोशल मीडिया एक्टिविस्ट तेजिंदर बग्गा ने कैसे रवीश कुमार की जालसाजी की पोल खोल कर रख दी।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

comments

Tags: , ,