‘सही दिशा में मोदी, 2030 तक महाशक्ति होगा भारत’

2030 तक लगभग हर क्षेत्र में भारत दुनिया का सबसे ताकतवर देश होगा। यह कहना है भारत में अमेरिका के राजदूत रिचर्ड वर्मा का। आईआईटी और आईआईएम के छात्रों को संबोधित करते हुए अमेरिकी राजदूत ने कहा कि “भारत तेज बदलाव के दौर से गुजर रहा है। यह बदलाव अक्सर हमें शुरू में दिखाई नहीं देता है, लेकिन इनका असर 8 से 12 साल में दिखने लगता है।” उन्होंने यह भी कहा कि भारत के पास दुनिया की सबसे बड़ी मिडिल क्लास आबादी है। इसके अलावा बुनियादी ढांचे में इस समय भारी खर्च हो रहा है। रिचर्ड वर्मा भारतीय मूल के ही हैं और उनकी छवि भारत के शुभचिंतक की है। उनके इस बयान को काफी अहम माना जा रहा है।

विकास की रेस में देर से दौड़ा भारत!

रिचर्ड वर्मा ने इशारों-इशारों में यह भी कहा कि भारत में बहुत सारे काम अब शुरू हुए हैं जो 10 साल पहले शुरू हो जाने चाहिए थे। इसकी वजह से तरक्की का पहिया लगभग ठहर गया था। अब चीन जैसी महाशक्ति भारत के बगल में ही है। ऐसे में भारत को थोड़ा संघर्ष करना पड़ेगा लेकिन यह संघर्ष बहुत लंबा नहीं होगा। भारत का एक अंतरराष्ट्रीय महाशक्ति बनना तय है। अमेरिका इस दौरान भारत का साथ देना चाहता है, क्योंकि दोनों देश एक-दूसरे के प्रतिद्वंदी नहीं, बल्कि स्वाभाविक सहयोगी हैं। अमेरिकी राजदूत का कहना था कि भारत में विकास की अपार संभावनाएं हैं। लेकिन इस ताकत को पहचानने और खुद को एक बाजार के तौर पर पेश करने की रणनीति का दूरगामी असर पड़ने वाला है।

‘पॉजिटिव बदलाव में जुटे हैं पीएम मोदी’

रिचर्ड वर्मा ने कहा कि अमेरिकी संसद में पीएम मोदी के भाषण का काफी अच्छा असर वहां पर पड़ा है। इसका वहां के पॉलिसी मेकर्स और कारोबारियों, दोनों पर ही सकारात्मक असर देखने को मिल रहा है। यह बदलाव एक सोची-समझी रणनीति का असर है। अमेरिका ही नहीं, दुनिया के कई तरक्कीपसंद देश भारत को भविष्य के पार्टनर के तौर पर देखने लगे हैं।

अमेरिका में भारतीय कारोबार को मौके

राजदूत वर्मा ने याद दिलाया कि पिछले दो साल में दोनों देशों के बीच कारोबार रिकॉर्ड लेवल पर पहुंच गया है। भारत के कारोबारियों के लिए अमेरिका अब सबसे बड़ा एक्सपोर्ट मार्केट है। यही कारण है कि दोनों देशों के बीच कारोबार आज 110 अरब अमेरिकी डॉलर तक पहुंच गया है। पिछले साल भारत से 11 लाख लोग अमेरिका की यात्रा पर गए, जबकि अमेरिका से करीब इतने ही लोग अलग-अलग कामों से भारत आए। ये अब तक का रिकॉर्ड है।

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

comments

Tags: , ,