Loose Top

केरल में नरसंहार जारी, सीपीएम ने ली एक और जान

केरल में हिंदुत्ववादी और राष्ट्रवादी संगठनों से जुड़े लोगों का नरसंहार जारी है। अब कन्नूर जिले के पिनयारी में एक बीजेपी कार्यकर्ता को चाकुओं से हमला करके मार डाला गया। 29 साल के रमित नाम के इस बीजेपी कार्यकर्ता को पिछले कुछ वक्त से धमकियां भी मिल रही थीं। जिस गांव में यह बर्बर घटना हुई है वो राज्य के मुख्यमंत्री पी विजयन का गांव है। दरअसल इस हत्या में केरल के मुख्यमंत्री पर सीधे सवाल उठ रहे हैं क्योंकि रमित का घर उनके घर से करीब 100 मीटर की दूरी पर है। बताया जा रहा है कि हत्यारे सीपीएम कार्यकर्ता सीएम विजयन के सबसे करीबी लोग हैं।

केरल के सीएम का हत्या में हाथ!

वैसे तो केरल में सीपीएम की सरकार बनने के बाद से लगातार बीजेपी और संघ से जुड़े लोगों की हत्याएं हो रही हैं, लेकिन यह पहली बार है जब सीधे तौर पर मुख्यमंत्री पी विजयन का हाथ सामने आ रहा है। रमित के परिवार वालों के साथ विजयन की निजी रंजिश की बात भी निकल कर आ रही है। विजयन और रमित के मकान एक ही गांव में 100 मीटर की दूरी पर हैं। 14 साल पहले रमित के पिता की भी हत्या हो चुकी है। उसमें भी विजयन के समर्थकों का ही नाम सामने आया था। केरल में विधानसभा चुनाव के दौरान रमित के घर पर विजयन के समर्थकों ने हमला किया था, जिसमें उन्होंने रमित की मां पर चाकुओं से हमला किया था। एक के बाद एक इतनी घटनाएं होने के बावजूद केरल पुलिस ने इस परिवार को सिक्योरिटी नहीं दी।

हत्यारों को केरल पुलिस की शह!

हिंदुत्ववादी ताकतों के खिलाफ वामपंथी हिंसा में पुलिस का रोल भी काफी अहम बताया जा रहा है। ज्यादातर मामलों में पुलिस कोई कार्रवाई नहीं करती। यहां तक कि हत्यारों को बचाने के आरोप भी पुलिस पर लग रहे हैं। बीजेपी ने इन सारे मुद्दों को आज दिल्ली में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करके उठाया है और कहा है कि इस हत्या के पीछे असली गुनहगार को पकड़ने के लिए सीबीआई की जांच जरूरी है, क्योंकि केरल की पुलिस अब विश्वास खो चुकी है।

पिछले ही हफ्ते तिरुवनंतपुरम में एक दलित बीजेपी कार्यकर्ता विष्णु की इसी तरह से हत्या कर दी गई थी। उस मामले में भी केरल पुलिस ने कोई ठोस कार्रवाई नहीं की।

पूरी रिपोर्ट पढ़ें: इस दलित की हत्या पर सेकुलर ब्रिगेड जश्न मना रहा है!

बीजेपी के उत्थान से डरी हुई है सीपीएम

पिछले महीने कोझीकोड में नेशनल एग्जिक्यूटिव बैठक के बाद से केरल के वामपंथियों में बौखलाहट और बढ़ गई है। मुख्यमंत्री पी विजयन को लग रहा है कि बहुत जल्द यहां पर बीजेपी सीपीएम को जड़ से उखाड़कर फेंक देगी। ऐसे में उनके पास राजनीतिक हत्याओं का ही सहारा बचा है। इसके अलावा बीजेपी विजयन सरकार पर भ्रष्टाचार के मामले जोरशोर से उठाती रही है। बीजेपी और संघ के कार्यकर्ताओं की हत्या का असली कारण इसे ही माना जा रहा है।

पी विजयन के सत्ता संभालने से पहले ही न्यूज़लूज़ पर हमने बता दिया था कि यह व्यक्ति कितना हिंसक और बर्बर किस्म का है। हमारी ये रिपोर्ट इस लिंक पर क्लिक करके आप पढ़ सकते हैं-

कहता था लाश पर नमक डाल दो, अब सीएम बनेगा

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या कांग्रेस का घोषणापत्र देश विरोधी है?

View Results

Loading ... Loading ...