भारत छोड़िए, ईरान ने भी की पाकिस्तान की ठुकाई!

क्या आप कुछ साल पहले तक यह कल्पना कर सकते थे कि इस्लामी देश ईरान भी पाकिस्तान पर गोले दागेगा? जी हां, ये हो रहा है। जिस वक्त भारतीय सेना ने पीओके पर एलओसी के अंदर घुसकर धावा बोला उससे कुछ घंटे पहले ही ईरान से लगी पाकिस्तान की सीमा पर भी पाक फौजियों की ठुकाई चल रही थी। ईरान का भी आरोप है कि पाकिस्तान उसकी सीमा में आतंकवादी भेज रहा है। पीएम मोदी इसी साल मई जब तेहरान की यात्रा पर गए थे तो वहां के नेताओं से उनकी इस मसले पर बातचीत भी हुई थी। इसी दौरे में यह तय हुआ था कि पाकिस्तान के खिलाफ दोनों देश आपस में सहयोग करेंगे।

ईरान ने पाकिस्तानी सीमा में दागे गोले

27 और 28 सितंबर की रात में ईरान बॉर्डर गार्ड्स ने पाकिस्तानी चौकियों पर निशाना बनाकर मोर्टार से गोले दागे। पाकिस्तान की करीब 900 किलोमीटर की सीमा ईरान से लगती है। इसमें से ज्यादातर हिस्सा बलोचिस्तान का है। हालांकि ईरान के हमले से लोकल लोगों में दहशत फैल गई। यहां पर पाकिस्तानी सेना को हुए नुकसान की सही जानकारी नहीं मिल सकी है, हालांकि पाकिस्तान दावा कर रहा है कि उसे इस हमले से कोई नुकसान नहीं हुआ है। शुरुआती जानकारी के मुताबिक पंजगूर जिले में मोर्टार के तीन गोले फ्रंटियर कॉर्प के चेकपोस्ट पर दागे गए। उधर पाक ने इस हमले पर ईरान के अधिकारियों से औपचारिक विरोध दर्ज कराकर चुप्पी साध ली।

ईरान में भी आतंक एक्सपोर्ट करता है पाक

इस्लाम के नाम पर पाकिस्तान भले ही खुद को ईरान का दोस्त होने का दावा करता है, लेकिन सच्चाई यह है कि वह वहां भी आतंकवादी भेजता है। दरअसल ईरान में शिया आबादी ज्यादा है। ऐसे में पाकिस्तान का नाम अक्सर ईरान में आतंकी हमलों की साजिश में आ चुका है। हाल ही में पूर्वी ईरान में एक सुरंग पकड़ी गई थी। जिसके बाद वहां पर राजधानी तेहरान समेत 50 जगहों पर एक साथ बम धमाकों की बड़ी साजिश का भंडाफोड़ हुआ था। लगातार हो रही इस तरह की घटनाओं से ईरान की सरकार बेहद नाराज है।

अफगानिस्तान और बांग्लादेश जैसे इस्लामी देश पहले ही पाक पर यह आरोप लगा चुके हैं कि वह उनके अंदरूनी मामलों में दखलंदाजी कर रहा है। ईरान की फौजी कार्रवाई से पाकिस्तान को चौतरफा घेरने की नरेंद्र मोदी सरकार की रणनीति सफल दिखाई दे रही है।

एक अपील: देश और हिंदुओं के खिलाफ पत्रकारिता के इस दौर में न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

comments

Tags: ,