Loose Top

जेल से बाहर पार्टी कर रहा है ‘हत्यारा’ रॉकी यादव!

पहली दो तस्वीरें रॉकी यादव के दोस्त ने शेयर की हैं। तीसरी तस्वीर आदित्य सचदेवा की है, जिसकी हत्या का आरोप रॉकी पर है।

बिहार के गया में गाड़ी ओवरटेक करने पर आदित्य सचदेवा नाम के छात्र को गोली मार देने वाला रॉकी यादव जेल के बाहर दोस्तों के साथ पार्टी कर रहा है? राकेश रंजन उर्फ रॉकी यादव के एक दोस्त ने फेसबुक पर उसके साथ रेस्टोरेंट की तस्वीरें शेयर की हैं। ये तस्वीरें मंगलवार 27 सितंबर को पोस्ट की गई हैं। फेसबुक की इन तस्वीरों से यह साफ नहीं हो रहा है कि दोनों की लोकेशन क्या है। रॉकी यादव बिहार में नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू की विधायक मनोरमा यादव का बेटा है। इसी साल मई में उसने अपनी लैंड रोवर कार से जाते वक्त आदित्य सचदेवा को गोली मारी थी। इससे पहले न्यूज़लूज़ पर हमने आपको बताया था कि कैसे गया जेल में रहते हुए भी रॉकी यादव लगातार फेसबुक पर ऑनलाइन रह रहा था। जेल में बैठे-बैठे वो काफी दिनों तक दोस्तों से चैटिंग करता रहा था।

पढ़ें रिपोर्ट: जेल में भी फेसबुक पर एक्टिव है रॉकी यादव

दोस्त ने फेसबुक पर डालीं तस्वीरें

रॉकी यादव की रेस्टोरेंट की तस्वीरें उसी के एक दोस्त ने फेसबुक पर पोस्ट की हैं। यह साफ नहीं हो रहा है कि तस्वीरें कहां की हैं, लेकिन इस दोस्त ने 21 सितंबर को ही लुधियाना के एक मॉल में चेकइन किया था। इससे लगता है कि ये तस्वीरें भी वहीं की हो सकती हैं। रॉकी यादव की तस्वीरों पर उसके दोस्तों ने कमेंट्स किए हैं। कुछ ने इस बात पर हैरानी भी जताई है कि ‘डॉन आ गया’। रेस्टोरेंट के अलावा एक तस्वीर घर की भी है। जिसमें रॉकी और उसका दोस्त सोफे पर बैठे नज़र आ रहे हैं। इस तस्वीर पर भी लोगों के कमेंट्स से लगता है कि तस्वीर नई है।

rocky-yadav-in-home

rocky-yadav-in-resturant

जमानत पर मीडिया में जानकारी नहीं

रॉकी यादव की जमानत या उसे पैरोल मिलने की मीडिया में कोई जानकारी नहीं है। ऐसे में यह सवाल भी है कि वो जेल के बाहर इस तरह कैसे घूम रहा है? अगर वो पैरोल पर बाहर आया है तो भी उसकी कुछ शर्तें होती हैं। वैसे रॉकी का पिता बिंदी यादव इसी महीने 1 सितंबर को जमानत पर छूट चुका है। लेकिन मीडिया में उपलब्ध खबरों के मुताबिक वो और उसकी मां अभी जेल में हैं।

रॉकी की SUV भी थाने से छूट चुकी है!

आम लोगों का अगर बाइक से भी एक्सिडेंट हो जाए तो बाइक कोर्ट से छुड़वाना लगभग नामुमकिन होता है। लेकिन आदित्य सचदेवा कांड में इस्तेमाल लैंड रोवर कार को कोर्ट ने फौरन छोड़ दिया। एडीजे सुरेश प्रसाद मिश्रा की कोर्ट ने 22 सितंबर को रॉकी यादव की लैंड रोवर (नंबर-डीएल/ 7063) कार को रिलीज करने का हुक्म जारी कर दिया। यानी हत्याकांड के सिर्फ साढ़े चार महीने के अंदर कार वापस मिल गई। आप इसी बात से समझ सकते हैं कि जेडीयू नेता मां और आरजेडी के नेता बाप के इस सुपुत्र के मामले में अदालत कितनी तत्परता के साथ काम कर रही है।

नाउम्मीद हो चुके हैं आदित्य के मां-बाप

aditya sachdeva parents

आदित्य सचदेवा की हत्या के बाद से ही उसके मां-बाप लगातार कह रहे हैं कि उन्हें इंसाफ की कोई उम्मीद नहीं है। क्योंकि कुछ दिन बाद रॉकी जमानत पर छूट जाएगा और बाद में सत्ता की ताकत का इस्तेमाल कर उसे हत्या के इस केस से बरी भी करवा दिया जाएगा। फेसबुक की इन तस्वीरों पर हमें मां-बाप की प्रतिक्रिया नहीं मिल सकी है। लेकिन उनकी जो भी प्रतिक्रिया होगी उसे हम खुद ब खुद समझ सकते हैं।

क्यों अहम है आदित्य सचदेवा हत्याकांड

बिहार में नीतीश-लालू की मिलीजुली सरकार बनने के बाद अपराध की यह पहली बड़ी घटना थी। रॉकी यादव का संबंध एक ऐसे परिवार से था जिसके जेडीयू और आरजेडी दोनों ही पार्टियों से रिश्ते थे। घटना के बाद से ही केस में लीपापोती शुरू हो गई थी। खुद को दूध का धुला बताने वाले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार घटना के 34 दिन बाद पीड़ित परिवार से मिलने गए थे और यह कहने की रस्म निभाई थी कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। लेकिन अगर फेसबुक पर पोस्ट हुई रॉकी यादव की तस्वीरें सही हैं तो हमें यह कहते हुए हिचकिचाना नहीं चाहिए कि बिहार में जंगलराज पार्ट-2 के लिए सिर्फ लालू यादव दोषी नहीं हैं, नीतीश कुमार का भी इसे मौन समर्थन मिला हुआ है।
(न्यूज़लूज़ को ये तस्वीरें रॉकी यादव के ही एक फेसबुक फ्रेंड से मिली हैं। उसका दावा है कि ये सारी तस्वीरें बिल्कुल नई हैं।)

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...

Popular This Week

Don`t copy text!