पीएम मोदी का पता बदलने वाला है, अब यहां रहेंगे!

बहुत जल्द प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सरकारी पता बदल सकता है। अभी प्रधानमंत्री दिल्ली के 7 रेसकोर्स रोड पर रहते हैं, लेकिन हो सकता है कि आने वाले दिनों में इसकी जगह कुछ और पता हो जाए। इस बारे में एक प्रस्ताव पर विचार चल रहा है और अगर सहमति बन गई तो बहुत जल्द देश की सत्ता का ये सबसे महत्वपूर्ण केंद्र ‘बदल’ जाएगा।

बदलने वाला है मोदी का पता?

ऐसा नहीं है कि प्रधानमंत्री अपने मौजूदा घर को छोड़कर किसी दूसरे घर में चले जाएंगे। दरअसल दिल्ली की रेसकोर्स रोड का नाम बदलने का एक प्रस्ताव नई दिल्ली नगर निगम (NDMC) में विचाराधीन है। इसके तहत रेसकोर्स रोड का नाम बदलकर ‘एकात्म मार्ग’ करने का प्रस्ताव है। अगर यह प्रस्ताव मंजूर हो गया तो जाहिर है प्रधानमंत्री के घर का पता भी 7, एकात्म मार्ग हो जाएगा। नई दिल्ली से बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी ने यह प्रस्ताव एनडीएमसी को दिया है। 22 सितंबर को निगम की एक बैठक होने वाली है जिसमें प्रस्ताव पर बातचीत होनी है। इलाके की सांसद होने के नाते मीनाक्षी लेखी एनडीएमसी की सदस्य हैं।

रेसकोर्स रोड नाम से एतराज क्यों?

दरअसल अंग्रेजों के जमाने में रेसकोर्स रोड का नाम वहां चलने वाले एक जुआघर के नाम पर पड़ा था। यह बात पहले भी कई लोग कह चुके हैं कि देश के प्रधानमंत्री का सरकारी आवास एक जुआघर के नाम पर नहीं होना चाहिए। कुछ लोग इस नाम को अंग्रेजी राज की निशानी के तौर पर भी देखते हैं।

‘रेसकोर्स’ की जगह ‘एकात्म’ क्यों?

इस साल भारतीय जनसंघ के नेता पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जन्मशती है। उन्होंने एकात्म मानववाद का सिद्धांत दिया था। सड़क का नया नामकरण इसी बात को ध्यान में रखकर किया जा रहा है। एकात्म मानववाद का मतलब है कि सर्वोच्च पद पर बैठा व्यक्ति समाज के आखिरी व्यक्ति की भलाई पर ध्यान दे।

पहले भी बदले जा चुके हैं कई नाम

12 जनवरी 1996 को कनॉट सर्कस का नाम बदलकर इंदिरा चौक और कनॉट प्लेस का नाम बदलकर राजीव गांधी चौक रखा गया था। इसी तरह 26 फरवरी 2002 को कैनिंग रोड का नाम बदलकर माधवराव सिंधिया मार्ग और 28 फरवरी 2015 को औरंगजेब रोड का नाम बदलकर डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम रोड रखा गया था। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल एनडीएमसी के अध्यक्ष हैं। बताया जा रहा है कि ऑपरेशन की वजह से वो बैठक में शामिल नहीं होंगे। ऐसी स्थिति में खुद मीनाक्षी लेखी इस बैठक की अध्यक्षता करेंगी।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

comments

Tags: ,