राहुल गांधी के ‘हिट एंड रन’ की ख़बर गायब क्यों है?

यूपी में किसान यात्रा पर निकले राहुल गांधी के काफिले ने रविवार देर शाम वाराणसी से गुजरते हुए सब्जी बेचने वाले एक दलित को रौंद दिया। हादसे के बावजूद मदद के लिए काफिला रुका नहीं और राहुल गांधी पूरे लाव-लश्कर के साथ वाराणसी के बाबतपुर हवाई अड्डे की तरफ रवाना हो गए। घायल व्यक्ति का नाम प्रकाश सोनकर है। उनकी उम्र 50 साल के करीब है। हादसे के बाद आसपास मौजूद लोगों ने उन्हें अस्पताल पहुंचाया, जहां उनकी हालत नाजुक बनी हुई है।

प्रकाश सोनकर अभी अस्पताल में भर्ती हैं। ताजा जानकारी के मुताबिक उनकी हालत नाजुक बनी हुई है।

प्रकाश सोनकर अभी अस्पताल में भर्ती हैं। ताजा जानकारी के मुताबिक उनकी हालत नाजुक बनी हुई है।

मदद के लिए नहीं रुका राहुल का काफिला!

बीती शाम गाजीपुर में खाट सभा करने के बाद राहुल गांधी अपने काफिले के साथ वाराणसी जा रहे थे। चश्मदीदों के मुताबिक उनकी बस के पीछे सफेद रंग की एक सफारी कार ने किनारे खड़े इस शख्स को टक्कर मारी। यह हादसा गिलट बाजार तिराहे पर हुआ। हादसे के वक्त प्रकाश काफिले के गुजरने का इंतजार कर रहे थे ताकि वो सड़क पार कर सकें। आसपास मौजूद लोगों ने उन्हें शिवपुर बाईपास के एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया। लेकिन नाजुक हालत को देखते हुए उन्हें फौरन दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल के ट्रॉमा सेंटर रेफर कर दिया।

हादसे के बाद भड़क उठा लोगों का गुस्सा

चौराहे पर खड़े लोग इस वाकये को देखकर भड़क उठे। लोगों का कहना है कि हादसे के बाद राहुल को अपना काफिला रुकवाकर घायल को अस्पताल पहुंचाने की जिम्मेदारी लेनी चाहिए थी। इसके बजाय उन्होंने मौके से भागना बेहतर समझा। उधर पुलिस का कहना है कि लोकल पुलिस चौकी के प्रभारी ने हादसे के बाद राहुल गांधी के काफिले का पीछा भी किया। उन्होंने सिक्योरिटी को हादसे की जानकारी भी दी ताकि एक्सिडेंट करने वाली सफारी गाड़ी को पकड़ा जा सके। लेकिन काफिले की रफ्तार बेहद तेज़ होने की वजह से इसमें कोई कामयाबी नहीं मिली। मौके पर मौजूद एक शख्स ने आरोप लगाया कि हादसे के बाद सफेद सफारी में बैठे लोगों ने पीछे के शीशे से घायल को देखा भी, इसके बावजूद वो नहीं रुके।

मीडिया में यह खबर गायब क्यों है?

बनारस में लोकल लोग इस बात पर हैरत जता रहे हैं कि इतने बड़े नेता के काफिले से हादसे के बावजूद यह मामला मीडिया से गायब क्यों हैं? कुछ लोकल अखबारों में यह खबर जरूर छपी है, लेकिन उसमें भी इस बारे में ज्यादा जानकारी नहीं दी गई है।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

comments

Tags: , ,