Loose Top Loose World

मिस जापान के ‘इंडिया कनेक्शन’ पर क्यों है विवाद

मिस जापान चुनी गईं प्रियंका योशीकावा को लेकर वहां पर विवाद छिड़ गया है। दरअसल प्रियंका के पिता भारतीय हैं और मां जापानी हैं। इस वजह से जापान में उन्हें नस्ली भेदभाव का सामना करना पड़ रहा है। वहां के कुछ लोगों का कहना है कि “मिस जापान शुद्ध जापानी नस्ल का होना चाहिए। किसी ‘हाफू’ को यह ताज मिलना गलत है।” जापान में आम बोलचाल में मिलीजुली नस्ल वालों को अपमानित करने के लिए हाफू (Halfu) शब्द का इस्तेमाल किया जाता है। प्रियंका को ताज पहनाने के साथ ही विवाद बढ़ गया और फेसबुक से लेकर ट्विटर तक यह मामला छा गया।

कौन है प्रियंका योशीकावा?

22 साल की प्रियंका योशीकावा का जन्म टोक्यो में हुआ है। मिस जापान बनने के बाद अपने इंटरव्यू में प्रियंका ने बताया कि “हां मेरे पिता पिता इंडियन हैं और मां जापानी हैं। मैं खुद को आधा जापानी और आधा भारतीय मानती हूं।” प्रियंका ने बताया कि “मैं बचपन से ही ऐसे भेदभाव का सामना करती रही हूं। लेकिन मुझे गर्व है कि मैं जापानी भी हूं और भारतीय भी। कई लोग मेरी स्किन के रंग को लेकर मजाक बनाते हैं। क्योंकि मेरी स्किन जापान के लोगों जैसी नहीं है। कई लोग मेरे साथ किसी कीड़े की तरह बर्ताव किया करते थे। मुझे छूना भी पसंद नहीं करते थे, मानो मैं कोई गंदी चीज हूं। फिर भी मुझे इसकी परवाह नहीं है। इस भेदभाव से मैं कमजोर नहीं, बल्कि और भी मजबूत होती गई। जापान में भी लोगों की सोच बदल रही है। कुछ लोग ही हैं जो इस तरह के भेदभाव में यकीन करते हैं।”

आधा भारतीय होने का फायदा!

कई लोग मानते हैं कि प्रियंका योशीकावा का आधा भारतीय होना उनकी मजबूती बन गया। वो आम जापानी लड़कियों के मुकाबले लंबी हैं। प्रियंका की लंबाई 5 फुट 8 इंच है। जबकि मिस जापान प्रतियोगिता में बाकी कंटेस्टेंट्स की एवरेज हाइट 5 फुट 3 इंच थी। प्रियंका जापानी के अलावा अंग्रेजी भी अच्छा बोलती हैं। वो प्रोफेशनल एलिफैंट ट्रेनर का काम करती हैं। अब वो इसी साल दिसंबर में वाशिंगटन में होने वाले मिस वर्ल्ड खिताब में जापान की नुमाइंदगी करेंगी।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...

Popular This Week

Don`t copy text!