Loose Top

यूपी चुनाव में ‘खाट पर चर्चा’ करेंगे राहुल गांधी!

कांग्रेस पार्टी अपने युवराज की खड़ी खटिया को दोबारा बिछाने के लिए नया आइडिया लेकर आई है। यूपी चुनाव में जीतने के लिए राहुल गांधी जगह-जगह ‘खाट पर चर्चा’ आयोजित करेंगे। राहुल गांधी खुद खटिया यानी चारपाई पर बैठेंगे और जनता तक अपनी बात पहुंचाएंगे। बताया जा रहा है कि यह प्रोग्राम नरेंद्र मोदी की ‘चाय पर चर्चा’ के तर्ज पर तैयार किया गया है। इंडियन एक्सप्रेस में आज इस बारे में खबर छपी है। साथ ही यह भी बताया गया है कि हंसी उड़ने के डर से कांग्रेस पार्टी ने ‘खाट पर चर्चा’ नाम को बदलकर ‘खाट सभा’ कर दिया है।

‘खाट पर चर्चा’ नहीं ‘खाट सभा’

दरअसल यूपी में कांग्रेस पार्टी का माहौल बनाने के लिए राहुल गांधी अगले महीने से वहां का दौरा करने जा रहे हैं। इस यात्रा को किसान यात्रा नाम दिया गया है। इसी के तहत जगह-जगह पर खाट सभाएं की जाएंगी। राहुल गांधी का कहना है कि वो सीधे लोगों से इंटरैक्ट करना चाहते हैं। इसलिए जिला स्तर के सभी नेताओं से कह दिया गया है कि वो राहुल गांधी के आसपास नजर न आएं। इन नेताओं को अलग से चल रही शीला दीक्षित और राजब्बर की यात्राओं के साथ रहने को कहा गया है।

प्रशांत किशोर का है नायाब आइडिया!

बताया जा रहा है कि खाट पर चर्चा का ये आइडिया प्रशांत किशोर का है। प्रशांत किशोर को ये जिम्मेदारी मिली हुई है कि वो राहुल गांधी की नॉन-सीरियस नेता की इमेज को बदलकर जननेता बना दें। इस काम में अब तक कई पब्लिक रिलेशन कंपनियां करोड़ों रुपये खर्च कर चुकी हैं। अब देखने वाली बात होगी कि क्या प्रशांत किशोर वाकई राहुल गांधी को खाट पर चर्चा के जरिए इस लायक बना सकेंगे कि लोग उन्हें वोट भी देने को तैयार हो जाएं।

कांग्रेस के नीतिकारों को लग रहा है कि किसानों और मजदूरों के काम की चीज होने की वजह से खाट उनका बेड़ा पार करवा सकती है। वैसे अब तक का अनुमान यही बताता है कि उत्तर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी की पिछले कई चुनावों की तरह खाट खड़ी होना पक्का है।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

Polls

क्या अमेठी में इस बार राहुल गांधी की हार तय है?

View Results

Loading ... Loading ...