बलूचिस्तान में डर्टी बम इस्तेमाल कर रही है पाक सेना!

बलूचिस्तान में नरसंहार का मुद्दा दुनिया की नजरों में आने के बाद से पाकिस्तानी सेना की बौखलाहट बढ़ती जा रही है। पिछले 8-10 दिन से बलोच इलाकों में स्वतंत्रता सेनानियों के खिलाफ फौजी ऑपरेशन में तेजी आई है। लोकल बलोच नेताओं का आरोप है कि कुछ इलाकों में केमिकल हथियारों का भी इस्तेमाल किया जा रहा है। सोशल मीडिया पर कुछ तस्वीरें भी सामने आई हैं जिससे यह शक पुख्ता होता है।

चुन-चुन कर घरों से उठाए जा रहे हैं लोग

बलूचिस्तान के इलाकों कच्ची बोलान, डेरा बुगती, मस्तंग, अवारान में आए दिन पाकिस्तानी फौजी घरों में घुसकर पुरुषों को किडनैप कर रहे हैं। हर रोज 4 से 5 लावारिस शव यहां-वहां मिलते हैं। लालकिले से पीएम नरेंद्र मोदी के बयान के बाद से सिर्फ डेरा बुगती जिले में 50 से ज्यादा लोगों को मारा जा चुका है। करीब डेढ़ सौ लोग गायब हैं और यह नहीं पता है कि वो जिंदा भी हैं या मार दिए गए।

गांवों से पुरुषों को गायब कर रही है सेना

पाकिस्तानी सेना के केमिकल हमलों का सबसे ज्यादा शिकार कच्ची बोलान इलाके के लोग हुए हैं। यहां एक गांव में 3 दर्जन घरों में 200 लोगों के परिवार रहते थे। 3-4 दिन पहले पाकिस्तानी फौज एक दिन के अंदर यहां से 40 पुरुषों को गिरफ्तार करके अपने साथ ले गई। इनमें कई छोटे बच्चे भी शामिल हैं। पाक फौजियों ने जाते-जाते कुछ घरों में आग भी लगा दी।

केमिकल हथियारों से भी हो रहे हैं हमले!

बलोच स्वतंत्रता सेनानियों का दावा है कि पाकिस्तानी सेना स्प्रे की शक्ल में केमिकल हथियार इस्तेमाल कर रही है। इसे आम बोलचाल में डर्टी बम भी कहा जाता है। कई जगहों पर इनकी मदद से लोगों को बेहोश करके उनकी आंखें निकाल लेने के मामले सामने आए हैं। यह एक तरह से एथेनिक क्लींजिंग का मामला होता जा रहा है। इससे पाकिस्तानी सेना पर इसी इलाके में एफ16 लड़ाकू विमानों से हवाई हमले करने का मामला भी सामने आ चुका है।

बलूचिस्तान की घटनाओं पर भारत की नज़र

विदेश मंत्रालय वहां के हालात पर लगातार नज़र बनाए हुए है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने एक बयान में कहा कि हमें पता है कि बलूचिस्तान में दमन बढ़ गया है। भारत सरकार इसे लेकर बेहद चिंतित है और हम इस मसले को कूटनीतिक मंचों पर उठाएगी। यह बात दुनिया के ध्यान में लाना जरूरी है कि पाकिस्तान बलोच इलाकों में अमानवीय अत्याचार कर रहा है।

comments

Tags: , ,