Loose Top

जेएनयू में दलित छात्रा से रेप हुआ है, कन्हैया कहां हो?

तस्वीर में कन्हैया के बगल में दायीं तरफ खड़ा लड़का अनमोल रतन है। इसी पर दलित छात्रा ने बलात्कार का आरोप लगाया है।

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में जिस छात्रा ने अपने साथ बलात्कार का केस दर्ज करवाया है वो दलित है। इस जानकारी के सामने आने के बाद यह बात साफ हो गई है कि मीडिया और आजादी ब्रिगेड इस मामले को दबाने में क्यों जुटी हुई है। दूसरे दिन से ही चैनलों और अखबारों से यह खबर गायब हो गई है। यहां तक कि जेएनयू में बात-बात पर आंदोलन करने वाले कन्हैया और उसके साथी भी अज्ञातवास में चले गए हैं। दरअसल आरोपी अनमोल रतन कन्हैया का सबसे खास दोस्त है। दोनों विश्वविद्यालय में बीते कुछ महीनों से चल रहे धरना-प्रदर्शनों में साथ-साथ देखे जाते थे।

पीड़ित को धमका रही थी कन्हैया ब्रिगेड!

यह जानकारी भी सामने आ रही है कि कन्हैया ब्रिगेड के लोग पीड़ित लड़की को डरा-धमका कर दबाव बना रहे थे। लड़की ने जब सामने आकर शिकायत की बात कही तो तमाम वामपंथी छात्र संगठनों के कार्यकर्ताओं ने उसे डराने की भरपूर कोशिश की। उसका करियर तबाह करने और जान से मार देने तक की धमकियां दी गईं। हालांकि अभी यह साफ नहीं है कि धमकी देने वाले लोग कौन थे।

अब तक फरार है आरोपी अनमोल रतन

वामपंथी छात्र संगठन आइसा (AISA) का दिल्ली यूनिट का प्रमुख और बलात्कार का आरोपी अनमोल रतन मामला सामने आने के बाद से फरार है। पुलिस उसकी गिरफ्तारी की कोशिश कर रही है, लेकिन उसका कुछ भी अता-पता नहीं चला। पुलिस का कहना है कि वो शातिर अपराधियों की तरह लगातार अपनी लोकेशन बदल रहा है। इस बीच, अनमोल रतन ने अपने वकीलों के जरिए अग्रिम जमानत की अर्जी भी दिल्ली की एक कोर्ट में डाल दी। इस अर्जी पर 27 अगस्त को सुनवाई होनी है। अब देखना यह होगा कि क्या दिल्ली पुलिस इससे पहले आरोपी को गिरफ्तार कर पाती है।

जाने-माने वकील प्रशांत पटेल ने ट्वीट करके यह जानकारी दी है कि पीड़ित लड़की दलित है। उन्होंने सवाल उठाया है कि अब रोहित वेमुला का नाम जपने वाले तथाकथित लिबरल लोग कहां गायब हैं।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...

Popular This Week

Don`t copy text!