अमेरिका में इसलिए आतंकी समझे जाते हैं शाहरुख!

बायीं तस्वीर ज़हीरुल इस्लाम की है। कई लोग कहते हैं कि उनकी शक्ल भी आश्चर्यजनक रूप से शाहरुख से काफी मिलती-जुलती है।

यह सवाल उठ रहा है कि आखिर क्या कारण है कि शाहरुख खान बार-बार अमेरिका में सिक्योरिटी चेक में पकड़ लिए जाते हैं। कई लोग दावा करते हैं कि वो अपने नाम की वजह से एयरपोर्ट के सिक्योरिटी सिस्टम में फंस जाते हैं। लेकिन सच्चाई यह नहीं है। शाहरुख खान या इससे मिलते जुलते नामों के कई दूसरे लोग भी अमेरिका में रहते हैं या वहां आते-जाते रहते हैं। बाकी लोग एयरपोर्ट पर हिरासत में नहीं लिए जाते। हमने जब पड़ताल की तो मुख्य रूप से दो कारण पता चल रहे हैं। इन दोनों कारणों की जानकारी भारतीय एजेंसियों को भी है।

कारण नंबर-1, शाहरुख का ISI कनेक्शन!

बताया जाता है कि शाहरुख खान पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के चीफ रहे लेफ्टिनेंट जनरल जहीरुल इस्लाम के रिश्तेदार हैं। 2012 में इस पद पर नियुक्ति के बाद यह खबर जोर-शोर से सामने आई थी। दरअसल जहीरुल इस्लाम नेताजी सुभाषचंद्र बोस की आजाद हिंद फौज के मेजर जनरल शाहनवाज खान के भांजे हैं। शाहनवाज खान ने शाहरुख़ की मां लतीफ फातिमा को गोद लिया था। इस बात का जिक्र खुद शाहरुख खुद कई बार कर चुके हैं। वो उन्हें नाना कहते हैं। मेजरल जनरल शाहनवाज की 1983 में मौत हो गई थी। अमेरिका दूसरे देशों के खुफिया अधिकारियों पर नज़र रखता है। आईएसआई के रिकॉर्ड को देखते हुए एजेंसी से जुड़े लोगों ही नहीं, बल्कि उनके पूरे फैमिली ट्री की गतिविधियां रेडार पर रहती हैं। यही वजह है कि शाह रुख जब भी अमेरिका जाते हैं वो पकड़े जाते हैं। अमेरिकी डेटा के मुताबिक वो पारिवारिक रूप से आईएसआई के एक बड़े अफसर से जुड़े हुए हैं। ऐसे में अमेरिका में बार-बार वो सिक्योरिटी जांच में अटक जाते हैं। पाकिस्तानी सेना जहीरुल इस्लाम और शाह रुख की रिश्तेदारी की खबर को गलत बताती रही है।

कारण नंबर-2, शाहरुख का दाऊद कनेक्शन

बीजेपी नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी ने कुछ साल पहले दावा किया था कि शाहरुख खान की यह मुश्किल दरअसल दाऊद से उनके रिश्तों के कारण है। करियर के शुरुआती दिनों में शाहरुख के अंडरवर्ल्ड से अच्छे रिश्ते थे। तब शाहरुख और दाऊद के बीच फोन पर बातचीत हुआ करती थी। दाऊद चूंकि इंटरपोल की तरफ से घोषित आतंकवादी है, इसलिए फोन पर उसके साथ संपर्क में रहने वालों को भी जांच के दायरे में रखा जाता है। स्वामी का कहना है कि अमेरिका की सिक्योरिटी एजेंसियों के पास जरूर कोई ऐसी बात होगी जिसकी वजह से वो शक के दायरे में रहते हैं। स्वामी का ये वीडियो आप नीचे लिंक पर क्लिक करके देख सकते हैं।

फिलहाल अब अमेरिकी सरकार ने भरोसा दिलाया है कि भविष्य में शाहरुख को ऐसी दिक्कत का सामना नहीं करना पड़ेगा। इसके लिए वो अपने सिक्योरिटी डेटाबेस में बदलाव करवा रहे हैं। अमेरिकी एजेंसियां शाहरुख की तलाशी को सिस्टम की चूक मान रही हैं, लेकिन यह सवाल भी उठ रहा है कि उन्हें वो बात सार्वजनिक करनी चाहिए जिसकी वजह से शाह रुख पर उन्हें बार-बार शक हो रहा है।

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

comments

Tags: , , ,