क्या डेंगू फैलने के इंतजार में है केजरीवाल सरकार?

दिल्ली में इस साल डेंगू पिछले सालों से भी ज्यादा भयानक रूप ले सकता है। बारिश का मौसम अभी शुरू ही हुआ है और राजधानी में बीमारी के 40 से ज्यादा मरीज सामने आ चुके हैं। इनमें से 11 इसी महीने में आए हैं। पिछले साल दिल्ली में डेंगू ने महामारी का रूप ले लिया था और करीब 16 हजार लोगों को इसकी वजह से अस्पतालों में भर्ती कराया गया था। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले साल डेंगू से 60 लोगों की जान गई थी। पिछले 20 साल में इतनी बड़ी संख्या में मौत नहीं हुई थी। इसके बावजूद केजरीवाल सरकार ने इस साल डेंगू से निपटने की बेहद ढीली-ढाली तैयारी की है।

डेंगू के बहाने राजनीति की तैयारी!

पिछले साल जब डेंगू फैला था तो केजरीवाल सरकार ने जिम्मेदारी से पल्ला झाड़कर केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराना शुरू कर दिया था। इस बार भी कुछ ऐसे ही हालात दिख रहे हैं। सरकार इंतजार में है कि केंद्र कुछ कदम उठाए, जबकि दिल्ली में स्वास्थ्य सेवाओं की पहली जिम्मेदारी राज्य सरकार की है। अब तक राज्य सरकार की तरफ से जो भी कदम उठाए गए हैं वो दिखावटी ज्यादा हैं। इसे आने वाले एमसीडी चुनाव से जोड़कर भी देखा जा रहा है।

300 डेंगू क्लीनिक खोले जाएंगे

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने ऐलान कर दिया कि 300 डेंगू क्लीनिक दिल्ली भर में खुलेंगे, लेकिन इसमें कोई बड़ी बात नहीं है। क्योंकि ये क्लीनिक मौजूदा अस्पतालों में ही होंगे। यह कोई अतिरिक्त सुविधा नहीं है जिससे डेंगू के मरीजों को आसानी से इलाज मिल सके। कुल मिलाकर अगले 15-20 दिन मे असली तस्वीर सामने आने लगेगी। अगर बारिश और धूप की वजह से तापमान का उतार-चढ़ाव जारी रहा तो बीमारी के मामले अचानक बढ़ सकते हैं। दिल्ली सरकार के काम करने के तरीके से तो यही लग रहा है कि वह इसके इंतजार में हैं।

नालों की सफाई भूली दिल्ली सरकार?

आरोप लग रहा है कि बारिश से पहले बड़े नालों की सफाई नहीं के बराबर हुई है। वैसे दिल्ली सरकार के पीडब्लूडी का दावा है कि उन्होंने ज्यादातर नालों की सफाई समय पर कर दी है लेकिन इन दावों पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं। कई जगहों पर नालों से मलबा निकालकर बाहर रख दिया गया, जो बारिश की वजह से बहकर फिर से नालों में चला गया। इस तरह से फाइलों में तो काम हो गया है, लेकिन असलियत में तस्वीर कुछ और ही है। पीडब्लूडी की वजह से एमसीडी के नालों की भी सफाई नहीं हो सकी। जिसका खामियाजा दिल्ली की जनता को भुगतना पड़ सकता है।

पिछले साल दिल्ली सरकार की लापरवाही पर मीडिया में खूब आलोचना हुई थी। तब केजरीवाल सरकार पर व्यंग्य करता यह कार्टून बहुत चर्चित हुआ था।

पिछले साल दिल्ली सरकार की लापरवाही पर मीडिया में खूब आलोचना हुई थी। तब केजरीवाल सरकार पर व्यंग्य करता यह कार्टून बहुत चर्चित हुआ था।

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

comments

Tags: ,