क्या जाकिर नाईक के पीछे कांग्रेस का हाथ है?

इस्लामी कट्टरपंथी जाकिर नाईक की सच्चाई जैसे-जैसे सामने आ रही है, कांग्रेस से उसकी करीबी की बात भी खुलती जा रही है। मुंबई के पुलिस कमिश्नर रहे बीजेपी सांसद सत्यपाल सिंह ने आरोप लगाया है कि उन्होंने अपने पद पर रहते हुए जाकिर की गतिविधियों के बारे में तब की सरकार को जानकारी भेजी थी। लेकिन इस पर कोई कार्रवाई नहीं की गई। सत्यपाल के मुताबिक जाकिर का असली काम लोगों को बेवकूफ बनाकर धर्म परिवर्तन कराना है और इसके लिए उसे विदेशों से मोटी रकम मिलती है।

धर्म परिवर्तन करवाता है जाकिर नाईक!

सत्यपाल सिंह ने बताया कि 2008 में मैंने जाकिर की करतूतों के बारे में तब की महाराष्ट्र और केंद्र सरकार को पूरी जानकारी भेजी थी। मैंने जाकिर नाईक के नेटवर्क पर कार्रवाई की सिफारिश भी की थी। लेकिन मेरी रिपोर्ट पर ध्यान तक नहीं दिया गया था। यह वो वक्त था जब जाकिर नाईक सोशल मीडिया के जरिए अपना असर बढ़ा रहा था। अगर उस वक्त सरकार ने कार्रवाई की होती तो आज जाकिर नाईक इतना खतरनाक नहीं हुआ होता। सत्यपाल सिंह का यह बयान काफी अहम है क्योंकि इससे इस बात का इशारा मिल रहा है कि जाकिर नाईक के पीछे बड़े कांग्रेसी नेताओं का हाथ था। कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह समेत पार्टी के कई नेताओं के जाकिर से रिश्ते सामने आ चुके हैं।

विदेशों से मिलते थे बेहिसाब पैसे!

यह बात सामने आ रही है कि बीते 8-10 साल में जाकिर नाईक के एनजीओ इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन को विदेशों से करोड़ों रुपये का फंड मिला है। भाषणबाजी करने के अलावा जाकिर नाईक सामाजिक कल्याणा का कोई ऐसा काम नहीं करता जिससे इस रकम के खर्च को वाजिब ठहराया जा सके। सवाल यह है कि मुंबई पुलिस की रिपोर्ट के बावजूद सरकार ने जाकिर के एनजीओ को हो रही फंडिंग को बंद क्यों नहीं करवाया। यह शक जताया जा रहा है कि विदेशों से आने वाली इस रकम से लोगों को लालच देकर उन्हें मुसलमान बनाया जाता था।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

comments

Tags: , ,