Loose Top

इमेज सुधारने के लिए मोदी को कॉपी करेंगे केजरीवाल!

प्रधानमंत्री बनने की हसरत तो पूरी नहीं हो पाई, लेकिन अरविंद केजरीवाल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नकल में सबसे आगे हैं। MyGov.com और ‘मन की बात’ जैसे कार्यक्रमों से जनता से जुड़ने के मोदी के तरीके को अब केजरीवाल भी कॉपी करेंगे। इसके लिए वो Talk to AK नाम से कैंपेन चलाने जा रहे हैं। इसके लिए एक वेबसाइट शुरू की जाएगी, जिसे 17 जुलाई को लॉन्च किया जाएगा। केजरीवाल ने अपने इस प्रोग्राम का मीडिया के जरिए जोर-शोर से प्रचार करना चाहते हैं।

करप्शन से ध्यान बंटाने की कोशिश?

अभी कुछ दिन पहले ही अरविंद केजरीवाल ने अपनी इमेज चमकाने के लिए परफेक्ट रिलेशन नाम की कंपनी को करोड़ों का ठेका दिया है। इस कंपनी की जिम्मेदारी होगी कि वो केजरीवाल के पक्ष में खबरें छपवाए। Talk to AK कैंपेन को भी इसी कोशिश का हिस्सा माना जा रहा है। दरअसल बीते कुछ दिनों में एक के बाद एक घोटालों से जनता के बीच केजरीवाल की इमेज काफी खराब हुई है। इसे ठीक करने के लिए करोड़ों रुपये का ये पीआर कैंपेन प्लान किया गया है।

मोदी से तुलना चाहते हैं केजरीवाल

एक न्यूज़ चैनल के रिपोर्टर ने अपना नाम जाहिर न करने की शर्त पर बताया कि केजरीवाल चाहते हैं कि मीडिया में उनकी तुलना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ की जाए। मुख्यमंत्री के करीबी लोगों ने कुछ भरोसेमंद पत्रकारों से इस बारे में बात भी की है। इसके लिए पार्टी जल्द ही कुछ संपादकों से भी संपर्क कर सकती है। कुल मिलाकर विज्ञापनों के साथ-साथ अब पीआर पर भी फोकस रहेगा।

मीडिया पर प्रचार की जिम्मेदारी होगी!

आने वाले दिनों में अगर आप अगले कुछ दिनों में टीवी चैनलों पर देश के प्रधानमंत्री और दिल्ली जैसे आधे-अधूरे राज्य के मुख्यमंत्री की तुलना के प्रोग्राम देखें तो आपको हैरत नहीं करनी चाहिए। दिल्ली से बाहर खास तौर पर एमपी, गुजरात, पंजाब, गोवा और कर्नाटक के अखबारों में ऐसी खबरें छपवाई जाएंगी जिससे लोगों को ऐसा महसूस हो कि दिल्ली में बहुत अच्छा काम हो रहा है और केजरीवाल प्रधानमंत्री मोदी के टक्कर के नेता हैं। सवाल यह है कि बिजली, पानी, सड़क और सफाई जैसे मुद्दों पर लगातार नाकाम हो रही दिल्ली सरकार क्या वाकई नकल की इन कोशिशों से अपनी इमेज सुधआर पाएगी?

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या कांग्रेस का घोषणापत्र देश विरोधी है?

View Results

Loading ... Loading ...