Home » Loose Views » जिंदा रहना है तो कुरान की आयतें याद कर लो काफिरों
Loose Views

जिंदा रहना है तो कुरान की आयतें याद कर लो काफिरों

गीता, रामायण तो याद जब मर्जी करते रहना लेकिन कुरान की आयतें जरूर याद कर लो। खुदा न खास्ता कभी शांतिदूतों के बीच फँस गए तो सही सलामत तो निकल जाओगे कुरान की आयते सुना कर। नहीं तो बांग्लादेश में हुए ‘इस्लामिक स्टेट’ के आतंकी हमले में एक भारतीय लड़की तारिशी जैन भी मारी गई है, वैसे तुम भी मारे जाओगे।
जानते हैं तारिशी जैन अपराध क्या था? केवल इतना कि इसे क़ुरान की आयतें याद नहीं थीं।
कुल 40 लोगों को बंधक बनाया गया था। जिसमें 20 लोगों को आयतें ना सुना पाने की वजह से मार डाला गया जिनमें अधिकतर विदेशी (इटली और जापान के) थे, जबकि 18 को इसलिए बाइज़्ज़त घर जाने दिया गया क्योंकि उन्होंने क़ुरान की आयतें सुना दी थीं।
हो गया रमज़ान मुबारक़… आप भी विचार करिये।

बाकी अल्लाह बहुत दयालु हैं!!!

जब भी बांग्लादेश और पाकिस्तान में हिंदुओं पर अत्याचार की बात होती हैं, तो हमारे मुस्लिम भाई कहते हैं कि “ये तो दूसरे देशों का मसला है, हमे उनसे क्या लेना देना?”

अच्छा जी, अगर ये दूसरे देशों का मसला है तो फिलिस्तीन के मुसलमानों की बात आते ही तुम लोग क्यों नाचने लगते हो? अमेरिका से लेकर म्यांमार तक मुसलमानों पर हो रहे ‘जुल्म’ का ठेका क्यों उठा लेते हो?

भारत में ही हिंदू लोग यहां मुस्लिम पीड़ितों की लड़ाई लड़ते हैं, जरा कोई मुझे मुस्लिमों के नाम भी बताओ जो कश्मीरी पंडितों के हक़ की लड़ाई लड़ रहा हो?

बात करते है दोगले इंसान!

(अदिति गुप्ता हिस्ट्री चैनल के लिए काम करती हैं। घूमना-फिरना उनका शौक है और वो सोशल मीडिया पर नरेंद्र मोदी के पक्ष में बेबाकी से बोलने के लिए जानी जाती हैं।)

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

या स्कैन करें

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

 Loading ...

Donate to Newsloose.com

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

या स्कैन करें

Popular This Week

Don`t copy text!