Loose World

ये हथियार जर्मनी में एक मस्जिद से बरामद हुए हैं!

Courtesy- speisa.com

जर्मनी में एक मस्जिद में तलाशी में सैकड़ों की तादाद में बंदूकें और दूसरे हथियार बरामद हुए हैं। यूरोप में इस्लामी कट्टरपंथियों के पास से हथियारों की ये अब तक की सबसे बड़ी बरामदगी बताई जा रही है। ज्यादातर हथियार ऐसे हैं जिनका इस्तेमाल लड़ाई में होता है। मस्जिद में कट्टरपंथियों की जमघट और संदिग्ध गतिविधियों को देखते हुए जर्मनी सुरक्षा एजेंसियों ने इसकी तलाशी ली थी। यह मस्जिद नॉर्थ राइन वेस्टफालिया में है।

रेफ्रीजरेटर में रखी थीं बंदूकें

जर्मनी SWAT टीम ने जब मस्जिद पर छापा मारा तो वहां पर सबकुछ सामान्य था। लेकिन जब मस्जिद के अंदर ही साथ में लगी दूसरी इमारत की तलाशी ली गई तो वहां पर रेफ्रीजरेटर के अंदर ये जखीरा मिला। सारी बंदूकें और दूसरे हथियार चालू हालत में हैं और इनको फौरन काम में लाया जा सकता है। लोकल क्रिश्चियन डेमोक्रेटिक यूनियन का कहना है कि इलाके में इस्लामिक स्टेट और दूसरे कट्टरपंथी इस्लामी गुटों का असर बढ़ रहा है और ऐसे कई दूसरे स्लीपर सेल होंगे, जिनके पास इसी तरह के हथियार और गोला-बारूद मिल सकते हैं।

यूरोप में बड़े हमले की साज़िश!

यह बात लगातार सामने आती रही है कि इस्लामी कट्टरपंथी संगठन यूरोप में बड़े हमले की तैयारी कर रहे हैं। हथियारों की इस बरामदगी को भी उसी चेतावनी से जोड़कर देखा जा रहा है। जर्मन सिक्योरिटी एजेंसियों ने फिलहाल हथियारों को जब्त करके जांच का काम शुरू कर दिया है। पता लगाया जा रहा है कि इतनी संख्या में बंदूकें यहां तक कैसे पहुंचीं और इन्हें यहां जमा करके रखने के पीछे असल मकसद क्या था। लोकल लोगों का कहना है कि मस्जिद और वहां पर आने-जाने वालों की गतिविधियों को देखते हुए यही कहा जा सकता है कि इस्लामी कट्टरपंथी किसी बड़ी तैयारी में हैं।

पूरे यूरोप में हथियारों का भंडार

जर्मनी ही नहीं पूरे यूरोप में मुस्लिम कट्टरपंथियों के ठिकानों से बीते कुछ महीनों में हथियारों की भारी बरामदगी हुई है। फ्रांस के पेरिस में 13 नवंबर 2015 को हुए आतंकवादी हमले के बाद अलग-अलग इलाकों में मारे गए छापों में करीब साढ़े तीन सौ ऐसे हथियार मिले थे, जिन्हें लड़ाई में इस्तेमाल किया जा सकता है। इन हथियारों के साथ 223 लोगों की गिरफ्तारी भी हुई थी। तब से अब तक संदिग्ध गतिविधियों के आरोप में फ्रांस प्रशासन 160 मस्जिदों को सील करवा चुका है।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...

Popular This Week

Don`t copy text!