Home » Loose Top » क्या नजीब जंग बीजेपी के साथ डबल गेम कर रहे हैं?
Loose Top

क्या नजीब जंग बीजेपी के साथ डबल गेम कर रहे हैं?

आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन का विकेट गिराने के बाद अब दिल्ली के उपराज्यपाल नजीब जंग सुब्रह्मण्यम स्वामी के टारगेट पर हैं। स्वामी ने जंग पर कांग्रेस का एजेंट होने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा है कि नजीब जंग जानबूझकर ऐसे कदम उठा रहे हैं, जिसकी वजह से अरविंद केजरीवाल को अपनी राजनीति चमकाने का मौका मिल रहा है। कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के इस मिले-जुले सियासी खेल की वजह से दिल्ली में बार-बार ऐसी स्थिति पैदा हो रही है, जिसकी वजह से बीजेपी को शर्मिंदगी उठानी पड़ रही है। सूत्रों के मुताबिक इस बारे में सुब्रह्मण्यम स्वामी बहुत जल्द पार्टी के बड़े नेताओं को कुछ तथ्य बताने वाले हैं। जिसके बाद नजीब जंग की छुट्टी भी पक्की है।

‘नजीब जंग के पीछे अहमद पटेल का दिमाग’

सुब्रह्मण्यम स्वामी ने अपने सूत्रों के हवाले से दावा किया है कि नजीब जंग कांग्रेस नेता अहमद पटेल के करीबी हैं और वो उनसे पूछ-पूछकर दांव चल रहे हैं। गौरतलब है कि नजीब जंग कांग्रेस की सरकार के वक्त दिल्ली के उपराज्यपाल बनाए गए थे। केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार बनने के बाद कई राज्यों के राज्यपाल हटाए गए, लेकिन नजीब जंग किसी तरह अपनी कुर्सी बचाने में सफल रहे। यह पहली बार है जब बीजेपी के किसी नेता ने नजीब जंग पर सीधा हमला बोला है। स्वामी का कहना है कि उपराज्यपाल होने के नाते नजीब जंग को चाहिए था कि वो सांसद महेश गिरी से बात करते और अरविंद केजरीवाल से कहते कि वो अपने झूठे आरोपों के लिए उनसे माफी मांगें।

क्यों शक के दायरे में आए नजीब जंग?

दरअसल अरविंद केजरीवाल ने बीजेपी सांसद महेश गिरी पर एनडीएमसी के सरकारी वकील एमएम खान की हत्या में शामिल होने का आरोप लगाया है। केजरीवाल का कहना है कि हत्या के आरोपी रमेश कक्कड़ को लेकर महेश गिरी उपराज्यपाल के पास गए थे। महेश गिरी का कहना है कि मैं रमेश कक्कड़ को जानता तक नहीं और मिलने का तो सवाल ही नहीं पैदा होता। यहीं पर शक पैदा होता है कि केजरीवाल ने इस थ्योरी को कैसे गढ़ा। सूत्रों के मुताबिक बीजेपी को यह पता चला है कि उपराज्यपाल और अहमद पटेल ने मुलाकात की यह झूठी कहानी रची और मामला अरविंद केजरीवाल तक पहुंचा दिया। केजरीवाल जिन कागजात के दम पर महेश गिरी पर आरोप लगा रहे हैं वो सारे उन्हें अहमद पटेल की तरफ से ही मुहैया कराए गए हैं। उम्मीद की जा रही है कि अगले हफ्ते तक सुब्रह्मण्यम स्वामी इस पूरी साजिश की परतें जनता के सामने लाने वाले हैं। साथ ही वो सरकार के अंदर कांग्रेस के लिए काम कर रहे ब्यूरोक्रेट्स के खिलाफ भी जंग छेड़ने वाले हैं।

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए:

OR

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...

Donate to Newsloose.com

न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए:

OR

Popular This Week

Don`t copy text!