Home » Loose Top » आतंकियों के बाद अब पोलियो भेज रहा है पाकिस्तान!
Loose Top

आतंकियों के बाद अब पोलियो भेज रहा है पाकिस्तान!

करीब तीन साल के बाद देश में फिर से पोलियो का खौफ लौट आया है। हैदराबाद और यूपी में कुछ जगहों पर पोलियो के वायरस मिलने की आशंका जताई गई है। हैदराबाद में सीवेज के पानी में पोलियो का एक्टिव वायरस मिलने के बाद सरकारी एजेंसियों की नींद उड़ी हुई है। इसके अलावा यूपी के बलरामपुर में एक बच्चे को पोलियो संक्रमण के शक में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। भारत में 2011 के बाद से पोलियो का कोई केस सामने नहीं आया है। इसके तीन साल बाद 2014 में भारत को पोलियो मुक्त घोषित कर दिया गया था। इसके बाद पहली बार इसका वायरस मिलने की खबरें आई हैं।

ओरल वैक्सीन के इस्तेमाल पर भी सवाल

भारत में बच्चों को पोलियो से बचाने के लिए अभियान चलाकर ओरल वैक्सीन दिया जाता है। डॉक्टरों का कहना है कि यह ओरल वैक्सीन अपने साथ पोलियो के वायरस को मल के रास्ते शरीर से बाहर निकाल तो देती है, लेकिन यह वायरस सीवेज सिस्टम में जमा होते रहते हैं। एक बार वैक्सीन के संपर्क में आने के बाद ये प्रतिरोधक क्षमता विकसित कर लेते हैं। कई डॉक्टरों का कहना है कि हमें मुंह से दी जाने वाली पोलियो वैक्सीन के बजाय इंजेक्शन पर भरोसा करना चाहिए। क्योंकि बच्चों को जो दवा पिलाई जाती है वो पोलियो के वायरस को पूरी तरह खत्म नहीं करती।

पाकिस्तान से आ रहा है पोलियो वायरस!

बीते 5-6 साल में भारत में पोलियो का एक भी मामला सामने नहीं आया, लेकिन दूसरी तरफ हमारा पड़ोसी पाकिस्तान बुरी तरह पोलियो की चपेट में है। 2012 से 2013 के बीच पाकिस्तान में पोलियो के मामलों में बढ़ोतरी दर्ज की गई थी। पेशावर को दुनिया भर में पोलियो के वायरस की सबसे सुरक्षित जगह माना गया है। यहां से पोलियो के सबसे ज्यादा केस सामने आते हैं। कराची और रावलपिंडी जैसे शहरों में भी हर साल बड़ी तादाद में बच्चे पोलियो की चपेट में आते हैं। भारत में हैदराबाद, बलरामपुर जिन भी शहरों में पोलियो के संदिग्ध मामले सामने आए हैं, वहां पाकिस्तानी अच्छी-खासी तादाद में आते हैं। इस एंगल से भी जांच की जा रही है कि कहीं ये पाकिस्तानी लोग भारत में पोलियो का वायरस लेकर तो नहीं आ रहे हैं।

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए:

OR

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...

Popular This Week

Don`t copy text!