कितने राज्य चुनावों का खर्च उठाएंगे दिल्ली वाले?

दिल्ली में आम आदमी पार्टी सरकार ने राजधानी से लेकर पंजाब तक के अखबारों में बड़े-बड़े विज्ञापन दिए हैं। इन विज्ञापनों में छपा है, अब हर सरकारी स्कूल में कम से कम एक पंजाबी शिक्षक होगा और पंजाबी शिक्षकों को सैलरी भी ज्यादा मिलेगी।

ये विज्ञापन निस्संदेह पंजाब में आगामी विधानसभा चुनावों को ध्यान में रख कर छापे गए हैं। इस बात का इससे भी पता चलता है कि विरोध का आरोप लगाते वक़्त सीएम केजरीवाल ने ट्विटर पर न सिर्फ दिल्ली की पार्टियों बीजेपी और कांग्रेस, बल्कि पंजाब में सरकार चला रही अकाली दल को भी लपेटा। दूसरी तरफ आम आदमी पार्टी की पंजाब शाखा इस ख़बर को खूब फैलाने में लगी है। आज दिन भर सोशल मीडिया पर आम आदमी पार्टी के लोगों ने इस विज्ञापन को खूब शेयर किया।पंजाब के सभी अखबारों में यह फुल पेज विज्ञापन छपा।

अपने एक समर्थक के इस ट्वीट को अरविंद केजरीवाल ने रीट्वीट किया है। इससे ही विज्ञापनों के पीछे की उनकी नीयत साफ हो जाती है।

दिल्ली के टैक्सपेयर्स, पंजाब में चुनावी गर्मी
गौर करने वाली बात ये है कि ये सारे कदमों का खर्च दिल्ली सरकार के खजाने से किया जा रहा है। कांग्रेस और बीजेपी ने आम आदमी पार्टी पर आरोप लगाया है कि वो दिल्ली वालों के टैक्स के पैसे से पंजाब में अपना चुनाव प्रचार कर रही है। वरना ऐसा नहीं है कि दिल्ली के स्कूलों में अभी पंजाबी टीचर नहीं होते या उनकी भर्ती से सिखों का कोई बहुत बड़ा फायदा होने वाला हो।

इससे पहले भी केजरीवाल पर इस बात के आरोप लग चुके हैं कि उन्होंने खुद अपने विधायकों को भी वसूली के लिए टारगेट दे रखा है। पिछले साल अक्टूबर में यह खबर लीक हो गई थी कि सभी विधायकों से कहा गया है कि पंजाब चुनाव की तैयारी के लिए वो पार्टी फंड में हर महीने 1-1 लाख रुपये जमा कराएं। पूरी खबर यहाँ पढ़ें:
ये है केजरीवाल सरकार के ‘घोटालों’ का पूरा हिसाब!


गुजरात और गोवा का खर्च भी उठाएगी दिल्ली

पंजाब के बाद आम आदमी पार्टी गुजरात और गोवा में भी चुनाव लड़ना चाहती है। इसके लिए औपचारिक एलान हो चुका है और बड़े पैमाने पर स्थानीय मीडिया की खरीद-फरोख्त भी चल रही है। खास तौर पर गोवा में कई बड़े पत्रकारों और अखबारों पर आरोप लगे हैं कि वो पैसे लेकर आम आदमी पार्टी के पक्ष में खबरें छाप रहे हैं। यह सवाल उठ रहा है कि ये पैसे कहां से आ रहे हैं। पूरी खबर पढ़ें:
दिल्ली की तरह गोवा में भी बिक रहे हैं पत्रकार

अतिवाद के सहारे चुनावी रोटी सेंकने की तैयारी
केजरीवाल पर पंजाबियत के नाम पर अतिवाद को फ़ैलाने के आरोप लग रहे हैं। पटियाला से आम आदमी पार्टी के एमपी धरमवीर गांधी ने अंग्रेजी अख़बार द इंडियन एक्सप्रेस को इंटरव्यू में अपनी ही पार्टी पर आरोप लगाया कि सत्ता में आने की जल्दी में उनकी पार्टी का आलाकमान “एंटी-नेशनल एजेंडा” वाले खालिस्तान समर्थकों तक का साथ लेने से परहेज नहीं कर रहा। उन्होंने ने यहाँ तक कहा कि अगर आम आदमी पार्टी ने इसी तरह इस खालिस्तानी कट्टरपंथियों को शह देना जारी रखा तो आतंकवाद के भयानक दौर से अभी-अभी निकले पंजाब के लिए यह विनाशकारी होगा।

एक अपील: देश और हिंदुओं के खिलाफ पत्रकारिता के इस दौर में न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

comments

Tags: , , , , ,