Loose Views

अमेरिका में मोदी और पाकिस्तान का ‘पक्का इलाज़’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समूचे भाषण के दौरान अमेरिकी संसद में लगातार तालियां बजती रहीं। यद्यपि उनकी अंग्रेजी से मैं कभी इम्प्रेस नहीं होता, फिर भी मनमोहन की अंग्रेजी से इसे बेहतर मानता हूँ। मनमोहन तो हिंदी बोलते थे या अंग्रेज़ी- कभी लगता ही नहीं था कि उनकी तबीयत ठीक-ठाक है। उन्हें सुनकर हमेशा यही लगता था, जैसे डॉक्टर ने उन्हें बेड-रेस्ट कहा हो और मजबूरी में उन्हें बोलना पड़ रहा हो। मोदी आँख में आँख डालकर बोलते हैं। वे आँख चुराकर बोलते थे। बहरहाल, आतंकवाद के मसले पर पड़ोसी देश की भूमिका के बारे में पीएम ने जो कुछ भी कहा, उसका महत्व इस वजह से भले हो सकता है कि ऐसा उन्होंने अमेरिकी संसद में कहा, पर अमेरिका और बाकी दुनिया भारत की बातों को कितनी अहमियत दे रही है, इसे लेकर मैं आश्वस्त नहीं हूँ। पाकिस्तान की चमड़ी मोटी है और उसे छेदने के लिए जिस भाले की ज़रूरत है, वह भारत के पास नहीं है। हम अगर अपने पुरुषार्थ से पाकिस्तान को सबक नहीं सिखा सकते, तो कोई दूसरा कुछ नहीं करेगा।
इसलिए, भारत को अब सीमित मकसद वाले डोसियर तैयार करने और लश्कर, हाफ़िज़ और दाऊद का नाम ले-लेकर कुढ़ने की बजाय सीधे तौर पर पाकिस्तान के ख़िलाफ़ व्यापक सबूतों और तथ्यों के साथ एक ऐसा डोसियर तैयार करना चाहिए, जिसे पाकिस्तान को नहीं, बल्कि बाकी दुनिया को सौंपा जाना चाहिए, ताकि उसे आतंकवादी देश घोषित कराने की मुहिम चलाई जा सके।

पाकिस्तान में जिस तरह की राजनीतिक, सामाजिक, धार्मिक और सांस्कृतिक परिस्थितियां हैं, उन्हें देखते हुए उसमें सुधार की उम्मीद करना मूर्खता है। भस्मासुर को विद्या-बुद्धि मिलने का इंतज़ार नहीं किया जाता, बल्कि उसके विनाश की रणनीति तैयार की जाती है।

पाकिस्तान में स्थिरता 68 साल में नहीं आई, तो अब क्या आएगी, इसलिए सही रणनीति यही है कि उसे और अस्थिर करके उसके तीन-चार टुकड़े करवा दिए जाएँ। पाकिस्तान में चरम-अस्थिरता, उथल-पुथल और विभाजन के बाद अपने आप स्थिरता आ जाएगी और फिर कश्मीर भी उसके लिए कोर इशू नहीं रह जाएगा। यही भारत के हित में होगा। यही पाकिस्तान के हित में होगा। और यही मानवता के हित में होगा। पाकिस्तान का मौजूदा स्वरूप स्वयं पाकिस्तान की जनता के लिए भी घातक है।

लेकिन यह सब करने के लिए सचमुच छप्पन इंच वाली छाती चाहिए। भाषण तो अच्छे लगते ही हैं। कोई पत्ता हिले-डुले, तो और अच्छा लगेगा।

(वरिष्ठ पत्रकार अभिरंजन कुमार के फेसबुक पेज से साभार)

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या कांग्रेस का घोषणापत्र देश विरोधी है?

View Results

Loading ... Loading ...