Home » Loose World » कॉन्डोम के विज्ञापनों से डरे पाकिस्तानी कठमुल्ले!
Loose World Viral Videos

कॉन्डोम के विज्ञापनों से डरे पाकिस्तानी कठमुल्ले!

पाकिस्तान में अब कंडोम और गर्भनिरोधक गोलियों के विज्ञापन टीवी और रेडियो पर नहीं आएंगे। माना जा रहा है कि पाकिस्तानी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया रेगुलेटरी अथॉरिटी ने वहां के कठमुल्लों के दबाव में यह फैसला किया है। अथॉरिटी का कहना है कि इन विज्ञापनों से बच्चों को कम उम्र में ही सेक्स के बारे में पता चल जाता है।

बच्चों के डर से जारी किया गया आदेश

पाकिस्तानी मीडिया पर नज़र रखने वाली इस अथॉरिटी का कहना है कि उन्हें कई अभिभावकों से इस बारे में शिकायत मिली थी कि कॉन्ट्रेसेप्टिव प्रोक्ट्स के विज्ञापनों से बच्चों के दिमाग में उत्सुकता जागती है। उन्हें लगातार ऐसी चिट्ठियां मिल रही थीं जिनमें ऐसे ऐड्स पर पाबंदी की मांग की जा रही थी। अथॉरिटी की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि “आम लोगों में इस बात को लेकर बहुत चिंता है कि उनके छोटे-छोटे मासूम बच्चे कॉन्डोम जैसे गर्भनिरोधक उपायों के बारे में बचपन से ही जान जाते हैं। कई बार वो इन्हें खरीदने के लिए मां-बाप से जिद भी करने लगते हैं।”

बर्थ कंट्रोल प्रोग्राम पर हावी कठमुल्ला

पाकिस्तान दुनिया का छठा सबसे अधिक आबादी वाला देश है, यहां जनसंख्या बढ़ोतरी की दर 2 फीसदी के करीब है। जिसे देखते हुए वहां की सरकार ने कुछ साल पहले बर्थ कंट्रोल प्रोग्राम शुरू किया था। लेकिन पाकिस्तान के कट्टरपंथियों में इसे लेकर बेहद नाराजगी रही है। अक्स बर्थ कंट्रोल से जुड़े कर्मचारियों पर हमलों की भी घटनाएं सुनने में आती रही हैं। पाकिस्तान में रेडियो-टेलीविजन पर कंडोम या दूसरे गर्भनिरोधकों के विज्ञापन वैसे भी आम तौर पर न के बराबर हैं। जो विज्ञापन आते हैं वो भी देर रात में। इसके बावजूद विज्ञापनों पर पूरी तरह रोक लगाने का फैसला चौंकाने वाला है।

कॉन्डोम को गैर-इस्लामी करार दिया

कुछ साल पहले एक मौलवी ने कॉन्डोम के इस्लाम के खिलाफ फतवा भी जारी किया था। इस्लाम में गर्भनिरोध को हराम करार दिए जाने के कारण पाकिस्तान में कॉन्ट्रेसेप्टिव्स के इस्तेमाल में बीते साल 7.2 फीसदी की गिरावट देखी गई है।

नीचे दिए लिंक्स पर आप कॉन्डोम कुछ विज्ञापनों को देख सकते हैं, जिन्हें लेकर पाकिस्तान में तलहका मच गया था

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए:

OR

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...

Donate to Newsloose.com

न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए:

OR

Popular This Week

Don`t copy text!