जेएनयू के नकाबपोश लौटे, दिल्ली पुलिस सो रही है!

दिल्ली की जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में देशविरोधी नारे लगाने वाले दो कश्मीरी छात्रों मुजीब गट्टू और मोहम्मद कादिर कैंपस में फिर से दिखाई दिए हैं। 9 फरवरी को हुई नारेबाजी की अगुवाई इन्हीं दोनों ने की थी। उस दिन के जेएनयू के तमाम वीडियो में ये दोनों मुंह पर कपड़ा बांधे दिखाई दे रहे थे। मुजीब को जेएनयू प्रशासन ने पिछले महीने की 26 तारीख को जारी आदेश में दो सेमेस्टर के लिए बाहर किया हुआ है। इन्हीं दोनों के लिए जेएनयू छात्रसंघ का अध्यक्ष कन्हैया अब तक यह कहता रहा है कि नारेबाजी बाहरी छात्रों ने की थी और वो उन्हें नहीं पहचानता।

मजे से कैंपस में घूमते-फिरते रहे दोनों

जेएनयू के प्रशासनिक भवन के पास शुक्रवार को हुए एक प्रदर्शन में मुजीब गट्टू और मोहम्मद कादिर शामिल हुए। इस दौरान दोनों का आरोपी छात्र उमर खालिद के साथ हंसी-मजाक भी चलता रहा। हैरत की बात ये है कि देशद्रोही नारेबाजी की अगुवाई करने वाले इन दोनों लड़कों से न तो जेएनयू प्रशासन और न ही दिल्ली पुलिस ने कोई पूछताछ की। जब ये दोनों कैंपस में मजे से घूम रहे थे तो दिल्ली पुलिस को कोई खबर तक नहीं थी। जेएनयू प्रशासन ने अपनी आंतरिक जांच में मुजीब और कादिर को दोषी पाया था। दोनों ही 9 फरवरी के बाद से लापता थे।

खुद को बेकसूर बता रहे हैं मुजीब और कादिर

दोनों ही कश्मीरी छात्र अब 9 फरवरी की घटना से बिल्कुल ही अंजान बन रहे हैं। उनका कहना है कि उन्होंने कोई देशद्रोही नारे नहीं लगाए। मोहम्मद कादिर का कहना है कि मैं 5 मार्च तक जेएनयू कैंपस में ही था। उसके बाद मां की तबीयत खराब होने की वजह से घर चला गया था। मोहम्मद कादिर ने तो कुछ न्यूज चैनलों को इंटरव्यू भी दिया। जेएनयू की प्रोफेसर जयति घोष ने पिछले दिनों कहा था कि वीडियो में दिख रहे देशद्रोही नारे लगाने वाले जेएनयू के छात्र नहीं, बल्कि आईबी के लोग हैं।

दिल्ली पुलिस क्या कर रही है?

दिल्ली पुलिस अब तक यह दावा करती रही है कि 9 फरवरी के सारे वीडियो की जांच के बाद उसने नारेबाजी करने वाले नकाबपोशों की पहचान कर ली है। लेकिन आज जिस तरह से दोनों कैंपस में वापस प्रकट हो गए। उससे तो यही लगता है कि दिल्ली पुलिस देश को झकझोर कर रख देने वाले इस कांड को लेकर गंभीर ही नहीं है। वैसे भी अब तक इस मामले में दिल्ली पुलिस ने जिस तरह से ढीली-ढाली कार्रवाई की है, उससे आरोपी छात्रों का पक्ष ही मजबूत हुआ है।

टाइम्स नाउ का यह वीडियो आप देख सकते हैं जिसमें मुजीब और कादिर दोनों ही ‘बंदूक के दम पर आजादी’ जैसे नारे लगा रहे हैं।

comments

Tags: , ,