ये डॉक्टर कहती है- इस्लाम अपनाओ, बीमारी भगाओ!

राजस्थान के बीकानेर के सरकारी अस्पताल की एक लेडी डॉक्टर इन दिनों सुर्खियों में है। यह डॉक्टर मरीजों को सलाह देती है कि अगर उसे बीमारी से छुटकारा पाना है तो इस्लाम कबूलना होगा। बीकानेर में मुक्ता प्रसाद नगर सरकारी डिस्पेंसरी में काम करने वाली सीनियर डॉक्टर जमीमा हयात पर यह आरोप अब तक कई मरीज लगा चुके हैं। कई मरीजों ने इस बात के सबूत भी दिए हैं कि डॉक्टर उन्हें इस्लाम अपनाने को कहती है।

पीएमओ में हुई डॉक्टर की शिकायत

यह मामला तब सुर्खियों में आया जब किसी मरीज ने डॉक्टर की हरकतों की शिकायत प्रधानमंत्री कार्यालय के शिकायत पोर्टल पर कर दी। जिसके जवाब में पीएमओ ने जिले के सीएमओ से रिपोर्ट मांग ली और कहा कि वो शिकायत की जांच कराएं और अगर इसमें सच्चाई पाई जाती है तो उचित कार्रवाई करें। प्रधानमंत्री कार्यालय से चिट्ठी आने पर जिले के अधिकारियों की नींद टूटी और उन्होंने डॉक्टर को एक नोटिस भेज दिया। जिले के सीएमओ ने माना है कि ऐसी शिकायतें उन्हें काफी वक्त से मिल रही थीं। इसी वजह से इन डॉक्टर के कई बार जल्दी-जल्दी तबादले हो चुके हैं। बताया जा रहा है कि डॉक्टर जमीमा सिर्फ उन्हीं मरीजों को इस्लाम कबूलने की सलाह देती हैं, जिसे देखकर उन्हें लगता है कि ये आसानी से उनकी बातों में आ जाएगा। कई मरीजों से वो दवाई की पर्ची पर इस्लाम और अल्लाह की तारीफें लिखने को भी कहती हैं।

लू लगने का इलाज़ है मुसलमान बन जाओ

एक अंग्रेजी अखबार ने मनीष सिंघल नाम के एक शख्स के हवाले से बताया है कि जब वह लू लगने पर अपने 8 साल की बेटी को इलाज के लिए डॉक्टर के पास ले गए तो उन्होंने दवाएं देने की बजाय इस्लाम की कुछ आयतें और ताबीजें बतानी शुरू कर दीं। डॉक्टर ने कहा कि अगर वो इस्लाम पर अमल करे तो उनका बेटी छोटी-मोटी बीमारियों से हमेशा सुरक्षित रहेगी। इन बातों से घबराकर मनीष सिंघल ने दूसरे डॉक्टर के पास जाकर बेटी का इलाज करवाया।

एक डॉक्टर की ऐसी हरकत पर बीकानेर की लोकल मीडिया में काफी दिनों से खबरें चल रही थीं। लेकिन पीएमओ से रिपोर्ट मांगे जाने के बाद मामला दोबारा सुर्खियों में आया है। हैरत की बात है कि एक डॉक्टर के इस्लाम का इस तरह से प्रचार करने पर ज्यादातर बड़े अखबारों और चैनलों ने ऐसे चुप्पी साध ली मानो कुछ हुआ ही न हो।

एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

comments

Tags: , ,