Loose Top Loose World

सोनाक्षी और मलाइका से देखिए कैसे डर गया नेपाल!

सोनाक्षी और मलाइका के काठमांडु के त्रिभुवन एयरपोर्ट पर पहुंचने और शो की तस्वीरें। मलाइका के साथ फ्लाइट के कैप्टन ने भी फोटो ली थी और उसे ट्विटर पर शेयर भी किया।

नेपाल में कम्युनिस्ट सत्ता में क्या आए कि उन्हें भारत से जुड़ी हर चीज से मानो डर लगने लगा है। ताजा मामला बॉलीवुड सुपरस्टार सोनाक्षी सिन्हा और मलाइका अरोड़ा को लेकर हुआ है। दरअसल सोनाक्षी और मलाइका एक प्रोग्राम के सिलसिले में नेपाल गई हैं। वहां पर काठमांडू के त्रिभुवन एयरपोर्ट पर नेपाली सेना के कुछ अधिकारियों ने उनके साथ फोटो खिंचवा ली। इन तस्वीरों पर पूरे नेपाल में कोहराम मच गया। यहां तक कि कम्युनिस्ट सरकार के रक्षा मंत्री ने अपने ही देश की सेना से सफाई मांग ली।

क्या है पूरा मामला?

दरअसल सोनाक्षी और मलाइका एक चैरिटी प्रोग्राम के सिलसिले में नेपाल गई हैं। यह प्रोग्राम नेपाली सेना ने ही आयोजित किया। इसका मकसद भूकंप पीड़ितों के लिए मदद इकट्ठा करना था। दोनों हीरोइनें जब एयरपोर्ट पहुंचीं तो वहां उन्हें रिसीव करने के लिए सेना के अफसर जनरल समीर शाई मौजूद थे। हीरोइनों के साथ उनकी तस्वीरों को नेपाली मीडिया ने यह कहते हुए छापा कि इन अफसरों ने सेना के मनोबल और सम्मान को नीचे गिराया है। इसके बाद नेपाली सेना सियासी दलों से लेकर कम्युनिस्ट समर्थकों के निशाने पर आ गई।

सेना ने क्या दी है सफाई?

विवाद के बाद नेपाली सेना के प्रवक्ता ने कहा है कि दूसरे देश से आए मेहमान के स्वागत में कुछ भी गलत नहीं है। यह एक सामान्य प्रोटोकॉल है। सेना का कहना है कि अधिकारियों को सिर्फ इसी काम के लिए एयरपोर्ट नहीं भेजा गया था। नेपाल में यह कार्यक्रम भूकंप पीड़ितों की मदद के लिए 14 मई को आयोजित किया गया था। पिछले एक साल से भूकंप पीड़ितों के पुनर्वास में नेपाली सेना जुटी हुई है। लेकिन फंड की कमी से इसमें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

मीडिया और नेपाली फिल्म इंडस्ट्री ने आग में घी डाला

सोनाक्षी और मलाइका के स्वागत को लेकर विवाद खड़ा करने में नेपाली मीडिया और वहां की फिल्मी हस्तियों का बड़ा हाथ रहा। नेपाली हीरो राजेश हमाल ने तो सोनाक्षी की तस्वीर अपने ट्विटर एकाउंट पर शेयर की और लिखा कि इसे देखकर हमारा सिर शर्म से झुक गया है।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या कांग्रेस का घोषणापत्र देश विरोधी है?

View Results

Loading ... Loading ...