Loose Top

जेल में भी फेसबुक पर एक्टिव है रॉकी यादव!

बिहार के गया जिले में आदित्य सचदेवा नाम के छात्र की हत्या के आरोपी राकेश रंजन यादव उर्फ रॉकी यादव जेल में भी फेसबुक पर एक्टिव है। इस बात की पुष्टि फेसबुक पर उसके कई फ्रेंड्स ने की है। हत्या में नाम आने के बाद से ही रॉकी की वॉल पर उसके कई दोस्तों ने कमेंट्स लिखे थे। इनमें से कई दोस्तों ने हत्या की घटना का जिक्र किया है और भरोसा जताया है कि वो इस मुसीबत से जल्द छूट जाएगा। लेकिन आज सुबह से ही टाइमलाइन के इन कमेंट्स को कोई डिलीट कर रहा है। कुछ लड़कों ने उसका फेसबुक अकाउंट पर ऑनलाइन (नीली बत्ती ऑन) सिग्नल देखने की बात भी मानी है।

रॉकी के फेसबुक एकाउंट पर कौन है?

वैसे तो किसी का पासवर्ड अगर किसी दूसरे के पास हो तो वो आराम से कहीं पर भी बैठे हुए कोई एकाउंट खोल सकता है। लेकिन रॉकी के साथ बिहार में जिस तरह का वीवीआईपी ट्रीटमेंट किया जा रहा है वो इस शक को पुख्ता करता है कि वो जेल में बैठे खुद ही अपना एकाउंट हैंडल कर रहा है। हालांकि उसने फेसबुक पर अपनी तरफ से कुछ भी लिखा नहीं है। उसके एक फेसबुक फ्रेंड ने हमें बताया कि वैसे भी उसने अपनी टाइमलाइन पर शायद ही कभी कुछ लिखा हो। ज्यादातर वो अपनी तस्वीरें ही शेयर करता था। ये तस्वीरें भी ऐसी होती थीं जिससे दोस्तों में उसकी शान और रौब बढ़े।

फेसबुक तस्वीरों की प्राइवेसी सेटिंग बदली

मीडिया में रॉकी की जो तस्वीरें चल रही हैं वो सारी फेसबुक से ही डाउनलोड की गई हैं। इनमें एक तस्वीर ऐसी भी है जिसमें जमीन पर ढेर सारी ऑटोमैटिक बंदूकें रखी हुई हैं। एक तस्वीर में रॉकी बिल्कुल किसी शूटर की तरह कहीं पर निशाना लगा रहा है। ये सारी तस्वीरें फेसबुक पर तो हैं, लेकिन अब उन्हें सिर्फ रॉकी के फ्रेंड्स ही देख सकते हैं। बाकी लोगों को सिर्फ प्रोफाइल पिक्चर और कवर पेज पर लगी फोटो ही दिख रही है।

बनारस के नामी स्कूल से पढ़ा है रॉकी

रॉकी ने स्कूली पढ़ाई बनारस में बीएचयू के पास एक नामी पब्लिक स्कूल से की है। उसके ज्यादातर फेसबुक फ्रेंड्स वहीं पढ़ चुके छात्र हैं। उसकी टाइमलाइन पर सांत्वना वाले कमेंट्स लिखने वाली उसके साथी भी यहीं के हैं।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या नरेंद्र मोदी सरकार इसी कार्यकाल में जनसंख्या कानून लाएगी?

View Results

Loading ... Loading ...

Popular This Week

Don`t copy text!