रफाल डील में अरबों की बचत का प्रचार करेगी बीजेपी

अब तक अगर आप रक्षा सौदों में सिर्फ घोटाले और कमीशनबाजी की खबरें सुनते रहे हैं तो वो दौर शायद अब खत्म हो गया है। फ्रांस से रफाल लड़ाकू विमान सौदे में भारत ने 21 हजार करोड़ रुपये बचा लिए। फ्रांसीसी कंपनी से भारत ने जबर्दस्त मोलभाव किया और कीमत कम कराकर ही डील पर मुहर लगाई। बीजेपी ने फैसला किया है कि वो इस डील में मिली कामयाबी का जोरशोर से प्रचार करेगी।

डील के प्रचार की जरूरत क्यों पड़ी

पिछले शनिवार (16 अप्रैल) को ही भारत और फ्रांस के बीच रफाल सौदे पर फैसला हो गया। इसके तहत भारत करीब 59 हजार करोड़ रुपये में 36 रफाल लड़ाकू विमान खरीदेगा। डेढ़ साल से भी कम समय में इनकी डिलिवरी का भी फ्रांस ने वादा किया है। इससे पहले यूपीए सरकार के वक्त इतने ही रफाल लड़ाकू विमानों के लिए 80 हजार करोड़ रुपये की डील हुई थी। सरकार बनने के बाद मोदी सरकार ने इस समझौते को रद्द करके नए सिरे से मोलभाव शुरू कर दिया। जिसकी वजह से 21 हजार करोड़ रुपये की यह बचत संभव हो पाई। इतनी बड़ी कामयाबी को मेनस्ट्रीम मीडिया के एक बड़े तबके ने लगभग नजरअंदाज कर दिया। सौदे की खबरें तो छपीं, लेकिन बचत की बात ज्यादातर जगहों पर गायब थी। सरकार चाहती है कि यह बात जनता तक पहुंचनी चाहिए कि मनमोहन और मोदी सरकार के बीच क्या फर्क है। फिलहाल इसके लिए ऑनलाइन प्रचार सामग्री तैयार कराई गई है।

यह ऑनलाइन प्रचार सामग्री सरकार की तरफ से सोशल मीडिया पर शेयर की गई है।

यह ऑनलाइन प्रचार सामग्री बीजेपी की तरफ से सोशल मीडिया पर शेयर की गई है।

भारत में बनाना पड़ेगा लड़ाकू विमान!

डील के तहत फ्रांस इस बात के लिए भी तैयार हो गया है कि वो डील की रकम का आधा भारत में रक्षा क्षेत्र के लिए निवेश करेगा। इससे भारत में छोटे कलपुर्जे सप्लाई करने वाली कंपनियों को 3 अरब यूरो का बिजनेस मिलेगा। साथ ही साथ इस निवेश की वजह से हजारों नई नौकरियां पैदा होंगी। मेक इन इंडिया की पॉलिसी के तहत नरेंद्र मोदी सरकार आजकल विदेशी कंपनियों को भारत में उत्पादन के लिए बढ़ावा दे रही है, ताकि देश में निवेश का माहौल सुधरे और नई नौकरियों के अवसर खुलें। (न्यूज़लूज़)

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

comments

Tags: , ,