ट्रेन में वसूली का वायरल वीडियो, सिपाही पकड़ा गया

फेसबुक वीडियो से ली गई स्टिल तस्वीरें।

कुछ दिन पहले सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था। इसमें एक पुलिसवाला ट्रेन के अंदर यात्रियों से पैसे लेते दिखाई दे रहा है। ताजा जानकारी ये है कि पुलिसवाले की पहचान हो गई है। वीडियो के आधार पर अमित नाम के इस सिपाही को सस्पेंड कर दिया गया है, साथ ही उस पर अवैध वसूली का केस भी दर्ज कराया गया है। ये सिपाही गाजियाबाद रेलवे स्टेशन पर जीआरपी (गवर्नमेंट रेलवे पुलिस) में तैनात था।

क्या है ट्रेन के अंदर वसूली का पूरा मामला?

घटना इसी महीने की शुरुआत की है। देहरादून से बांद्रा जाने वाली एक्सप्रेस (ट्रेन संख्या-19020) में सिपाही अमित एस्कॉर्ट ड्यूटी पर था। ट्रेन में उसने पहले से बैठे लोगों को उठाकर उन लोगों को बिठाना शुरू कर दिया, जिन्होंने उसे पैसे दिए थे। जब वो सीट पाने वालों से पैसे ले रहा था, तभी किसी ने अपने मोबाइल फोन से उसका वीडियो बना लिया और उसे फेसबुक पर अपलोड कर दिया।

वर्दी को शर्मसार व भ्रस्टाचार का साथ देता एक छोटा सा नमुना।

Posted by Ramchandra Yadav on Tuesday, 5 April 2016

फेसबुक पर वायरल हुआ वसूली का वीडियो

वसूली का ये वीडियो फेसबुक पर 6 अप्रैल को अपलोड किया गया है। इसके बाद यह खबर लिखे जाने तक इसे 22 लाख से भी ज्यादा लोग देख चुके हैं। इसके अलावा इसे 37 हजार लोगों ने शेयर किया है। वीडियो अपलोड करने वाले ने घटना के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं दी थी। इसलिए आरोपी पुलिसवाले की पहचान में थोड़ा वक्त लगा।

आम है ट्रेन में वसूली की ऐसी घटनाएं

वैसे तो देश भर में रेलवे के कई रूटों पर लोकल पुलिस और जीआरपी की वसूली की खबरें आती रहती हैं, लेकिन दिल्ली से सटे आसपास के इलाकों में यह समस्या कुछ ज्यादा ही गंभीर हो चुकी है। यहां ट्रेनों में चढ़कर पुलिसवाले बाकायदा किसी टीटीई की तरह टिकट चेक करते हैं। पहली बार हुआ है कि किसी ने हिम्मत करके पुलिसवाले का वीडियो बना लिया, जिससे ट्रेनों के अंदर लूट का मामला दुनिया के सामने आ गया।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

comments

Tags: , ,

Don`t copy text!