किसके डर से गायब हैं दिल्ली में पानी संकट की खबरें?

क्या आपको पता है कि दिल्ली में हर साल की तरह इस बार भी पानी का भयानक संकट है। हालत ये है कि बाहरी, दक्षिणी और पूर्वी दिल्ली के तमाम इलाकों में या तो पानी आ ही नहीं रहा है या आ भी रहा है तो नाम मात्र का। हर साल दिल्ली में पानी के लिए मचने वाला हाहाकार नेशनल मीडिया में खूब दिखाया जाता रहा है, लेकिन इस साल पानी संकट की खबरें ज्यादातर अखबारों और टीवी चैनलों से गायब है।

विज्ञापन छिनने के डर से खबरें गायब?

दरअसल केजरीवाल सरकार ने गर्मी का सीजन शुरू होने से ठीक पहले अखबारों में 2 से 3 पेज तक के विज्ञापन छपवाने शुरू कर दिए थे। इसके अलावा न्यूज चैनलों को भी हर दिन लाखों के विज्ञापन जारी किए जा रहे हैं। मीडिया के सूत्रों के मुताबिक इन विज्ञापनों के पीछे शर्त ही यही रहती है कि अखबार नेगेटिव रिपोर्टिंग हुई तो विज्ञापन वापस ले लिए जाएंगे। फरवरी में सरकार के एक साल पूरे होने पर केजरीवाल सरकार ने कुछ मीडिया समूहों को आखिरी वक्त तक विज्ञापन जारी नहीं किए थे, जब तक कि उन्होंने सरकार की तारीफ में खबरें नहीं दिखाईं। कुछ दिन पहले ही टीवी टुडे ग्रुप के एक रिपोर्टर ने ट्विटर पर बताया था कि कैसे उन पर केजरीवाल सरकार के पक्ष में खबरें लिखने का दबाव है। नाम न छापने की शर्त पर कई संवाददाताओं ने इस बात की पुष्टि की है कि विज्ञापन छिन जाने के डर से ही दिल्ली में पानी संकट की खबरें नहीं दिखाई जा रही हैं।

पिछले सालों से भी बुरी है हालत

अरविंद केजरीवाल ने चुनाव के वक्त पानी संकट को भी अपना मुद्दा बनाया था। लेकिन सच्चाई यह है कि हालात पिछले कुछ सालों के मुकाबले बेहद खराब हैं। संगम विहार इलाके में लाखों की तादाद में लोग रहते हैं। यहां कुछ गलियों के अलावा पूरे इलाके में एक बूंद भी पानी नहीं आ रहा। पानी का टैंकर आ रहा है, लेकिन बहुत कम। इलाके के लोगों की शिकायत है कि टैंकरों का पानी भी पहले जुगाड़ वालों को ही दिया जाता है। पूर्वी दिल्ली के मयूर विहार में आम तौर पर पानी का ज्यादा संकट नहीं होता था, क्योंकि ये इलाका यमुना से लगा हुआ है, लेकिन इस बार यहां भी हालात खराब हैं।

सरकार ने कहा- पानी का कोई संकट नहीं

दिल्ली के जल मंत्री कपिल मिश्रा से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि ‘दिल्ली में पानी का कोई संकट नहीं है। उनका कहना है कि पिछले एक साल में हमने 217 कॉलोनियों में पानी पहुंचा दिया है और अगले साल में 238 और कॉलोनियों में पानी पहुंच जाएगा।’ हालांकि जमीनी हालात कुछ और ही बयान कर रहे हैं। दिल्ली में जो भी पानी है वो हरियाणा से आता है, एक दिन भी अगर हरियाणा पानी बंद कर दे तो दिल्ली का बुरा हाल हो जाता है।

दिल्ली में पानी नहीं, लातूर को देंगे!

दिल्ली में मचे हाहाकार के बावजूद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को लातूर की फिक्र है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखकर लातूर को रोज 10 लाख लीटर पानी भेजने का एलान किया है। केजरीवाल के प्रस्ताव को लेकर दिल्ली के लोगों ने सोशल मीडिया पर अपना गुस्सा निकाला।

एक अपील: देश और हिंदुओं के खिलाफ पत्रकारिता के इस दौर में न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

comments

Tags: , , ,