दिल्ली-अमृतसर वाया चंडीगढ़ चलेगी बुलेट ट्रेन

दिल्ली और अमृतसर के बीच वाया चंडीगढ़ बुलेट ट्रेन चलेगी। इस बारे में प्री-फिजिबिलिटी रिपोर्ट सौंप दी गई है और फाइनल रिपोर्ट अगले महीने किसी वक्त आने की उम्मीद है। ये दूसरा रूट है जहां बुलेट ट्रेन चलाने का फैसला हुआ है। इससे पहले मुंबई और अहमदाबाद के बीच बुलेट ट्रेन पर काम जारी है। देश में बुलेट ट्रेनों का जाल बिछाने के लिए केंद्र सरकार ने नेशनल हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन नाम से एक कंपनी भी बनाई है।

क्या है दिल्ली-अमृतसर बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट?

458 किलोमीटर लंबे इस रूट पर 1 लाख करोड़ रुपये खर्च का अनुमान जताया गया है। इसमें ट्रैक बिछाने, इंजन और बुलेट ट्रेन के डिब्बों और खर्च में हो सकने वाली अनुमानित बढ़ोतरी को भी शामिल किया गया है। फिजिबिलिटी रिपोर्ट के मुताबिक ये प्रोजेक्ट पूरा करने में 8 साल का वक्त लगेगा। अहमदाबाद-मुंबई लाइन की तरह यह रूट प्राइवेट-पब्लिक पार्टनरशिप (पीपीपी मॉडल) पर नहीं, बल्कि सरकारी खर्चे पर बनेगा।

डेढ़ घंटे में दिल्ली से अमृतसर का सफर

बुलेट ट्रेन 300 से 350 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ेगी। इस हिसाब से यात्रा का औसत समय डेढ़ घंटे के करीब लगने का अनुमान है। फ्रांसीसी कंपनी सिस्ट्रा (Systra) और भारतीय रेल के पीएसयू RITES के बीच इस प्रोजेक्ट के बारे में करार हुआ है। रिपोर्ट के मुताबिक बुलेट ट्रेन का किराया शताब्दी के AC-1 कोच के किराये के बराबर रखा जाएगा।

मुंबई-अहमदाबाद रूट पर काम जारी

उधर, मुंबई से अहमदाबाद के बीच देश के पहले बुलेट ट्रेन रूट पर काम जारी है। इसके लिए एक कंपनी भी बनाई गई है। प्रोजेक्ट पर 98 हजार करोड़ रुपये खर्च आने का अनुमान है, जिसके लिए जापान से 0.1 फीसदी की दर पर लोन भी मंजूर हो चुका है। इस रूट की लंबाई 508 किलोमीटर है, जिसे तय करने में बुलेट ट्रेन को 2 घंटे से कुछ कम वक्त लगेगा। अभी सबसे तेज़ दुरंतो एक्सप्रेस इस रूट पर 7 घंटा लगाती है।

एक अपील: देश और हिंदुओं के खिलाफ पत्रकारिता के इस दौर में न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:

comments

Tags: , ,