Loose Top Recent

सत्ता में आने के बाद भी सुषमा स्वराज विपक्ष की नेता के कमरे में रहना चाहती हैं

सुषमा स्वराज सरकार में विदेश मंत्री हैं, लेकिन वो चाहती हैं कि अब भी उसी कमरे में बैठें जिसमें विपक्ष के नेता बैठते हैं। पिछली लोकसभा में सुषमा स्वराज नेता, विपक्ष थीं। इस हैसियत से उन्हें संसद में कमरा नंबर-44 अलॉट किया गया था। लेकिन विदेश मंत्री बनने के बाद उन्होंने वो कमरा छोड़ दिया और विदेश मंत्री के कमरे यानी रूम नंबर-42 में शिफ्ट हो गईं। लेकिन अब एक साल बाद सुषमा वापस अपने पुराने कमरे में चली गई हैं। चूंकि अभी कोई भी नेता, विपक्ष के पद पर नहीं है, लिहाजा ये कमरा साल भर से खाली ही पड़ा हुआ था।

Capture

वापस विपक्ष के नेता के कमरे में जाने की सही वजह तो सुषमा स्वराज ही जानती होंगी। लेकिन कहीं न कहीं उनके दिमाग में ये बात जरूर होगी कि विपक्ष की नेता के तौर पर उनकी खूब धाक जमी थी, लेकिन विदेश मंत्री के तौर पर वो लगातार विपक्ष के निशाने पर हैं।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या कांग्रेस का घोषणापत्र देश विरोधी है?

View Results

Loading ... Loading ...