Loose Top Recent

जनता अब अरविंद केजरीवाल को सिर्फ ‘चिल्लर’ क्यों दे रही है?

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी कंगाल हो गई है। खुद पार्टी के नेता कह रहे हैं कि दफ्तर के रोजमर्रा के कामकाज के लिए भी फंड नहीं बचा है। लिहाजा केजरीवाल को खुद जनता से अपील करनी पड़ी कि वो पार्टी को चंदा दें।

arvind-kejriwal

वैसे चंदे के चक्कर में आम आदमी पार्टी को पहले कई बार काफी बदनामी उठानी पड़ी है। केजरीवाल ने अपनी अपील में कहा है कि हम चोरी छिपे चंदा नहीं लेते। लोग पार्टी की वेबसाइट पर जाकर अपनी मर्जी से चंदा दें।

सरकार बनने के बाद से लोगों ने पार्टी को चंदा देना लगभग बंद ही कर रखा है। इसी महीने की 11 तारीख को सिर्फ 709 रुपये का चंदा मिला। 12 जुलाई को 8,222 रुपये और 13 जुलाई को 3,113 रुपये मिले। ऐसा भी लग रहा है कि कुछ लोग चंदे के नाम पर मज़ाक कर रहे हैं। पार्टी की वेबसाइट के मुताबिक एक महिला रोज कभी 1 तो कभी 2 रुपये डोनेट करती है। ऐसे कई लोग हैं जो वेबसाइट के कमेंट सेक्शन में ‘We want our money back’ भी लिखते रहते हैं। वैसे आज सीएम केजरीवाल की अपील के बाद चंदे में थोड़ी तेजी आई है। लेकिन ये भी उतना नहीं है, जितना पहले कभी हुआ करता था।

11

चंदे में सबसे ज्यादा गिरावट प्रशांत भूषण और योगेंद्र यादव को पार्टी से निकालने के बाद आई। क्योंकि उन्हें पार्टी से निकालने से बहुत सारे लोग अरविंद केजरीवाल से नाराज हैं।
उधर बीजेपी ने कहा है कि केजरीवाल चंदे की अपील करके दिखावा कर रहे हैं। जिस तरह से दिल्ली में प्रचार पर 526 करोड़ रुपये का बजट रखा गया है, उससे जनता में उनकी बहुत बदनामी हुई है। इसी से लोगों का ध्यान हटाने के लिए आम आदमी पार्टी ने चंदे का रोना शुरू किया है।

कृपया लेख कॉपी-पेस्ट न करें। कई लोग पोस्ट कॉपी करके फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर देते हैं, जिससे वेबसाइट की आमदनी काफी कम हो गई है। राष्ट्रवाद की विचारधारा पर आधारित यह वेबसाइट बंद हो जाएगी तो क्या आपको खुशी होगी? कृपया खबरों का लिंक शेयर करें।
एक अपील: न्यूज़लूज़ के जरिए हम राष्ट्रवादी पत्रकारिता को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। इस वेबसाइट पर होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और हमारी आमदनी काफी कम। हम अपने काम को जारी रख सकें इसके लिए हमें आर्थिक मदद की जरूरत है। ये हमारे लिए ऑक्सीजन का काम करेगी। डोनेट करने के लिए क्लिक करें:
Donate with

comments

Polls

क्या कांग्रेस का घोषणापत्र देश विरोधी है?

View Results

Loading ... Loading ...